देश

संयुक्त राष्ट्र के मानवतावादियों ने कहा- अफगानिस्तान में इस साल बेघर हुए छह लाख से ज्यादा लोग 

 नई दिल्ली
अफगानिस्तान पर कब्जा करने की कोशिश कर रहा था, तब न जाने कितने ही परिवार अपना घर छोड़कर जाने के लिए मजबूर किए जा रहे थे।  संयुक्त राष्ट्र के मानवतावादियों ने सोमवार को कहा कि इस साल हिंसा के कारण अफगानिस्तान में 635,000 लोगों को उनके घरों से निकाल दिया गया था। इन लोगों में से 12,000 से अधिक हाल ही में मुख्य रूप से पंजशीर प्रांत से काबुल में विस्थापित हुए थे। ।

मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (ओसीएचए) ने एक विज्ञप्ति में कहा कि विश्व संगठन और उसके सहयोगी 2021 की पहली छमाही में 80 ऐसे लाख लोगों तक पहुंच चुके हैं। काबुल में लगभग 1,300 विस्थापित लोगों को सहायता मिलने वाली है।

कार्यालय ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी और अंतर्राष्ट्रीय प्रवासन संगठन ने कुनार प्रांत में हिंसा से विस्थापित हुए 9,300 से अधिक लोगों को राहत दी है। विश्व खाद्य कार्यक्रम अगले साल अक्टूबर से जनवरी के महीनों के लिए भोजन राशन वितरित करेगा, ओसीएचए ने कहा, ये भोजन सैकड़ों हजारों कमजोर लोगों तक पहुंचेगा। मैदान वरदाक प्रांत में करीब 63,000 लोगों को खाद्य सहायता मिलनी है। मानवीय प्रतिक्रिया में स्वास्थ्य सेवा भी एक प्राथमिकता है। कार्यालय ने कहा कि बदख्शां प्रांत के यवन और रघिस्तान जिलों में खसरे के प्रकोप ने कम से कम 29 बच्चों को प्रभावित किया।

Related Articles

Back to top button
Close