स्वास्थ्य

घंटों कंप्यूटर और मोबाइल करते है इस्तेमाल, तो आपको भी हो सकता है कंप्यूटर विजन सिंड्रोम

आंखें हमारे शरीर का सबसे कोमल अंग होती है। लेकिन हम सबसे ज्यादा प्रभाव अपनी आंखों पर ही डालते हैं। धूल, मिट्टी, प्रदूषण के अलावा कंप्यूटर स्क्रीन, टैब, मोबाइल फोन के सामने घंटों बैठने से आंखें कमजोर हो जाती है और कई केस पर तो यह कंप्यूटर विजन सिंड्रोम में बदल जाता है। अब आप सोच रहे होंगे कि कंप्यूटर विजन सिंड्रोम है क्या? तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कंप्यूटर विजन सिंड्रोम के बारे में,  इसके लक्षण क्या होता है और इससे बचाव कैसे किया जा सकता है…

क्या होता है Computer Vision Syndrome
कंप्यूटर विजन सिंड्रोम ऐसे सभी डिजिटल एक्सपोजर का परिणाम है जिसमें हम अपनी आंखों को लंबे समय तक डालते हैं। इसे आमतौर पर डिजिटल आई स्ट्रेन के रूप में भी जाना जाता है। विश्व स्तर पर, कंप्यूटर विजन सिंड्रोम लगभग 60 मिलियन लोगों को प्रभावित करता है। अगर हम ज्यादा समय तक अपनी आंखों पर दबाव डालना जारी रखते हैं, तो यह आगे चलकर आंखों की जटिलताओं को जन्म दे सकता है। सिर्फ बड़ों में ही नहीं,  जो बच्चे बहुत देर तक टैब या कंप्यूटर देखते रहते हैं, उनमें भी ये समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

कंप्यूटर आंखों को कैसे प्रभावित करते हैं?
जब आप लगातार कंप्यूटर या अन्य गैजेट्स को देख रहे होते हैं, तो आपकी आंखों को बार-बार फोकस और रीफोकस करना पड़ता है। वे कंप्यूटर से दूसरी चीजों पर आगे-पीछे घूमते रहते हैं जिन्हें आपको बीच-बीच में पढ़ना या लिखना पड़ सकता है। इस दौरान आंखों की मांसपेशियों से बहुत अधिक प्रयास की आवश्यकता होती है।

कंप्यूटर विजन सिंड्रोम के कारण
कंप्यूटर विजन सिंड्रोम के कुछ सामान्य कारण हैं-
– पढ़ने या कंप्यूटर वाले चश्मे का नियमित रूप से उपयोग नहीं करना
– बढ़ती उम्र
– असंशोधित ओकुलर (दृष्टि) एटियलजि
– बहुत कम रोशनी
– आपकी डिजिटल स्क्रीन पर अत्यधिक रोशनी

कंप्यूटर विजन सिंड्रोम के लक्षण
कंप्यूटर विजन सिंड्रोम से जुड़े सामान्य लक्षण और लक्षण हैं-
– धुंधली या दोहरी दृष्टि
– आंख की थकान
– ब्लर विजन
– आंखों में जलन महसूस होना
– सूखी आंखें
– आंखों से पानी आना
– सिर दर्द
– पीठ या गर्दन में दर्द

CVS का इलाज कैसे करें
– चिकित्सा परामर्श के बाद आपकी आवश्यकता के अनुसार चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस आप पहन सकते हैं। इसमें सिंगल, बाइफोकल लेंस या टिंटेड लेंस लगाए जा सकते हैं।

– अपने डेस्क को अपनी आंखों के स्तर से थोड़ा नीचे और अपने चेहरे से 20-28 इंच दूर रखें।

– 20-20-20 नियम अपनाएं। यानी की 20 सेकंड के लिए हर 20 मिनट में कम से कम 20 फीट की दूरी पर देखकर अपनी आंखों को आराम दें।

– अपने कंप्यूटर के फॉन्ट साइज और ब्राइटनेस में बदलाव करें ताकि आपको अपनी आंखों पर ज्यादा जोर न देना पड़े।

– यदि आपकी आंखें अक्सर सूखी महसूस होती हैं, उन्हें लुब्रिकेट करने के लिए आई ड्रॉप का यूज करें।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: