छत्तीसगढ़

4601 करोड़ के ई-टेण्डर घोटाले का हिसाब दें रमन सिंह जी – शैलेष

रायपुर
ई-टेण्डर मामलें में प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस की सरकार पारदर्शिता के साथ काम कर रही है। रमन सिंह जी के कार्यकाल में 4601 करोड़ का टेण्डर घोटाला हुआ था। अच्छा काम करने वाली कांग्रेस सरकार पर रमन सिंह झूठा आरोप लगा रहे है। ई-टेंडर को लेकर भाजपा और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह की बयानों पर कांग्रेस कड़ी निंदा करती है। यह भुलाया नहीं जा सकता है कि रमन सिंह के शासनकाल में ई-टेण्डर में ही चिप्स में बड़ा घोटाला हुआ था। नंवबर 2015 से लेकर मार्च 2017 तक 1459 टेंडर डालने के लिये एक ही ईमेल आईडी का इस्तेमाल किया गया था। 17 विभागो के अधिकारियों ने 4601 करोड़ के टेण्डर में 74 एकसेस कम्प्यूटरों का इस्तेमाल निविदा अपलोड करने में किया गया और उन्हीं कम्प्यूटरों का इस्तेमाल निविदा भरने के लिये भी किया गया, यह स्पष्ट रूप से बड़ा घोटाला था। आज कांग्रेस की सरकार, भूपेश बघेल जी की सरकार पारदर्शिता से काम कर रही है तो रमन सिंह झूठे आरोपों का सहारा ले रहे है।  

त्रिवेदी ने कहा है कि रमन सिंह सरकार ने ई-टेण्डर से बाहर की फर्मो और ठेकेदारों को पिछले दरवाजे से फायदा पहुंचाया गया। ई-टेण्डर का नाम तो लिया गया भ्रष्टाचार कम करने के लिये और पारदर्शिता बढ़ाने के लिये, लेकिन रमन राज में ई-टेण्डर की पूरी प्रक्रिया दूषित और पक्षपातपूर्ण रही। इसका इस्तेमाल सिर्फ अपने चहेते ठेकेदारों को बढ़ावा देने के लिये और उनके आर्थिक हितलाभ के लिये किया गया। बड़े-बड़े टेण्डर जानबूझकर ई-टेण्डर प्रक्रिया से ही किये गये। ई-टेण्डर प्रक्रिया का दुरूपयोग अपने चहेतों ठेकेदारों को काम देने भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी को बढ़ावा देने के लिये किया गया। ई-टेण्डर से प्रदेश के बाहर के भाजपा समर्पित ठेकेदारों को काम दिया गया। आरएसएस और भाजपा से जुड़े लोगों को ठेकेदारी में लाभ पहुंचाने के लिये ई-टेण्डर प्रक्रिया का दुरूपयोग करने के लिये जिम्मेदार रमन सिंह जी और भाजपा नेता आज इस प्रक्रिया की वकालत कर रहे।

Related Articles

Back to top button
Close