उत्तर प्रदेश

हत्या के मामले में कमी, अपहरण की घटनाएं बढ़ी: NCRB डेटा

 
नई दिल्ली

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो यानी नैशनल क्राइम रेकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के नए डेटा के मुताबिक 2017 में देश भर में संज्ञेय अपराध के 50 लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए गए। इस तरह 2016 में 48 लाख दर्ज मामलों की तुलना में 2017 में 3.6 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। महिलाओं के खिलाफ अपराध में लगातार तीसरे साल इजाफा हुआ है। इस मामले में सबसे ऊपर यूपी है।
 5.9 प्रतिशत कम हुए हत्या के मामले
करीब एक साल की देरी के बाद 2017 के लिए वार्षिक अपराध का आंकड़ा जारी किया गया है। वर्ष 2017 में हत्या के मामलों में 5.9 प्रतिशत की गिरावट आई। एनसीआरबी की रिपोर्ट के मुताबिक 2017 में हत्या के 28653 मामले दर्ज किए गए जबकि 2016 में 30450 मामले सामने आए थे।

अपहरण के मामलों में भी इजाफा
इसमें कहा गया कि हत्या के अधिकतर मामले में 'विवाद' (7898) एक बड़ा कारण था। इसके बाद 'निजी रंजिश' या 'दुश्मनी' (4660) और 'फायदे' (2103) के लिए भी हत्याएं हुईं। वर्ष 2017 में अपहरण के मामलों में 9 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई। 2016 में अपहरण के 88008 मामले दर्ज किए गए थे जबकि 2017 में 95893 मामले दर्ज किए गए थे।
 
महिलाओं के खिलाफ अपराध लगातार तीसरे साल बढ़ा
आंकड़ों के मुताबिक देशभर में वर्ष 2017 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3,59,849 मामले दर्ज किए गए। महिलाओं के खिलाफ अपराधों में लगातार तीसरे साल वृद्धि हुई है। 2015 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3,29,243 मामले दर्ज किए गए थे और 2016 में 3,38,954 मामले दर्ज किए गए थे।

महिलाओं के खिलाफ यूपी में सबसे ज्यादा अपराध
महिलाओं के खिलाफ अपराध के दर्ज मामलों में हत्या, बलात्कार, दहेज हत्या, आत्महत्या के लिए उकसाना, ऐसिड हमले, महिलाओं के खिलाफ क्रूरता और अपहरण आदि शामिल हैं। एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार, अधिकतम मामले उत्तर प्रदेश (56,011) में दर्ज किए गए। उसके बाद महाराष्ट्र में 31,979 मामले दर्ज किए गए। आंकड़े के मुताबिक, पश्चिम बंगाल में 30,992, मध्य प्रदेश में 29,778, राजस्थान में 25,993 और असम में 23,082 मामले दर्ज किए गए।
 

Tags

Related Articles

Back to top button
Close