देश

स्वच्छ भारत की तरह स्वच्छ हवा मिशन क्यों नहीं? : मास्क लगाकर TMC सांसद

 
नई दिल्ली 

देश के कई बड़े शहर इन दिनों वायु प्रदूषण की मार झेल रहे हैं. इसकी वजह से लोग गंभीर रूप से प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर हैं. इस बीच हवा को लेकर सियासी खींचतान भी जारी है. मंगलवार को लोकसभा सदन में टीएमसी सांसद काकोली घोष दस्तीदार ने ये मुद्दा उठाया.

उन्होंने कहा कि जब हमारे पास 'स्वच्छ भारत मिशन' है, तो क्या हमारे पास 'स्वच्छ हवा मिशन' नहीं हो सकता है? क्या हमें स्वच्छ हवा में सांस लेने का अधिकार सुनिश्चित नहीं किया जाना चाहिए? उन्होंने कहा कि दिल्ली में लोग मास्क लगाए घूम रहे हैं. दुनिया के 10 सबसे प्रदूषित शहरों में से 9 भारत में हैं. यह बेहद चिंता का विषय है.
 
पश्चिम बंगाल के बारासात से टीएमसी सांसद दस्तीदार ने कहा कि जहरीली हवा हमारे फेफड़ों को खराब करती है और इस वजह से ऑक्सीजन हमारे खून में नहीं जाती. जिसके बाद फेफड़े बदलने की बात होती है. यह सीधे-सीधे आर्थिक समस्या से भी जुड़ा है. हमें मॉनिटर करना होगा कि क्या हो रहा है, केवल नोटिफाई कर देने से कुछ नहीं होगा. पावर प्लांट पर भी हमें काम करना होगा. सरकार को इस मामले को बहुत ही गंभीरता से लेना चाहिए. इसे एक राष्ट्रीय मिशन बनाना चाहिए तभी हम अपनी अगली पीढ़ी को स्वच्छ हवा दे सकेंगे.

मास्क लगाकर संसद पहुंचीं टीएमसी सांसद काकोली घोष दस्तीदार ने चर्चा को आगे बढ़ाते हुए कहा कि दुनिया के ज्यादातर प्रदूषित शहर भारत के हैं. क्या जैसे स्वच्छ भारत मिशन है वैसे ही क्या हम स्वच्छ हवा मिशन लॉन्च कर सकते हैं. इसके साथ ही उन्होंने यह भी पूछा कि क्या हमारा अधिकार नहीं है कि हमें सांस लेने के लिए स्वच्छ हवा मिले.

Tags

Related Articles

Back to top button
Close