छत्तीसगढ़

लोक अदालत में चेक बाउंस और पारिवारिक 490 मामलों का हुआ निराकरण

रायपुर
छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर के निर्देश पर विगत दिनो जिला न्यायालय में आयोजित लोक अदालत में चेक बाउंस के 459 मामले एवं पारिवारिक विवाद के 31 मामलों का निराकरण हुआ। कुल 490 मामलों के निराकरण के साथ रायपुर जिला अव्वल रहा।

प्राधिकरण अध्ययन रामकुमार तिवारी के निदेर्शानुसार लोक अदालत के लिए जिला न्यायालय रायपुर में 11 खण्डपीठों का एवं तहसीलों में कुल 5 खण्डपीठों का गठन किया गया था। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव उमेश कुमार उपाध्याय ने बताया रायपुर जिला न्यायालय में चेक बाउंस से संबंधित लगभग 13 हजार एवं पारिवारिक 3 हजार मामले लंबित हैं जिसमें से राजीनामा की संभावना वाले लगभग ढाई हजार मामले लोक अदालत में सुनवाई के लिए रखे गए थे। लोक अदालत में डॉ. सुमीत सोनी न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी की खण्डपीठ में चेक बाउंस के कुल 377 मामले सुनवाई हेतु नियत किए गए थे जिसमें आपसी समझौते के आधार पर 146 मामलों का निराकरण किया गया।

इसके अलावा न्यायिक मजिस्ट्रेट गिरीवर सिंह राजपूत एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट दीपक शर्मा की एकल पीठ ने 91 और 72 मामलों का निराकरण किया। इस वर्ष आखिरी लोक अदालत 14 दिसम्बर को आयोजित की जाएगी। जो लोग या संस्थाएं प्रीलिटिगेशन प्रकरण प्रस्तुत करना चाहते हैं वे 30 नवम्बर तक अपने मामले प्रस्तुत कर सकते हैं।

Related Articles

Back to top button
Close