स्वास्थ्य

रेड ऐपल से बेहतर होता है Green Apple, कम होता है दिल की बीमारी का खतरा

अगर रोजाना एक सेब खाया जाए तो तमाम बीमारियों से बचा जा सकता है। पुरानी कहावत भी है कि 'ऐन ऐपल अ डे कीप्स द डॉक्टर अवे।' लेकिन पूरी तरह से हेल्‍दी और फिट रहना है तो इसमें थोड़ा सा अपडेट कर लीजिए। लाल की जगह हरा सेब खाना ज्‍यादा फायदेमंद हो सकता है क्‍योंकि यह तमाम तरह के फायदों के साथ ही दिल संबंधित सारी बीमारियों को भी दूर भगाता है। हरा सेब यानी ग्रीन ऐपल में कई तरह के प्रोटीन, विटमिन, खनिज और फाइबर पाए जाते हैं। इसके अलावा ये पाचन संबंधी सभी विकारों से राहत प्रदान करने के लिए भी जाना जाता है।

ग्रीन ऐपल का जूस है फायदेमंद
शोधकर्ताओं के मुताबिक ग्रीन ऐपल दिल संबंधी सभी बीमारियों को दूर भगाने में ज्‍यादा मददगार होते हैं। इनमें रुटिन नाम का एक यौगिक होता है जो कि खून को जमने या फिर थक्‍के बनने से रोकता है। इसके अलावा यह स्‍ट्रोक के खतरे को भी काफी हद तक कम कर देता है। इसलिए हाल ही में हुए शोध में रोजाना एक गिलास ग्रीन ऐपल का जूस पीने की बात कही गई है।

विटमिन्स मिनरल्स से भरपूर ग्रीन ऐपल
महिलाओं के लिए भी ग्रीन ऐपल काफी फायेदमंद होता है क्‍योंकि ये विटमिन के, कैल्श्यिम और पोटैशियम के गुणों से युक्‍त होता है जो कि हड्डियों संबंधी होने वाली परेशानी से बचाता है। हरे सेब में विटमिन 'ए' पाया जाता है जो आंखों की रोशनी को भी बढ़ाता है।

पाचन प्रणाली को दुरुस्त रखता है ग्रीन ऐपल
बता दें कि हरा सेब पाचन प्रणाली को चुस्‍त-दुरुस्‍त रखता है। इसमें पाया जाना वाला फाइबर काफी आसानी से डाइजेस्‍ट हो जाता है। इससे मेटाबॉलिज़म रेट में भी सुधार होता है। साथ ही वेट लॉस में भी यह काफी सहायक है। इसके अलावा हरे सेब में मौजूद फ्लावोनोइड अस्‍थमा से भी राहत दिलाता है। यही वज‍ह है कि हरे सेब के नियमित सेवन से फेफड़ों के कैंसर की आशंका काफी हद तक कम हो जाती है।

Related Articles

Back to top button
Close