व्यापार

म्यूचुअल फंड में पैसे लगाने से बच रहे हैं निवेशक, जानें- असली वजह

नई दिल्ली
 भारतीय अर्थव्यवस्था को पटरी पर दौड़ाने के लिए मोदी सरकार लगातार बड़ी घोषणाएं कर रही हैं. जिससे शेयर बाजार में तेजी देखने को मिल रही है. लेकिन इस तेजी का सकारात्मक असर इक्विटी म्यूचुअल फंड के निवेश पर नहीं हो रहा है, जो कि एक चिंता का विषय है.
 दरअसल शेयर बाजारों में तेजी के बावजूद इक्वटी म्यूचुअल फंडों में निवेश अक्टूबर महीने में 5 महीने के निचले स्तर पर आ गया. अक्टूबर में इस श्रेणी के म्यूचुअल फंड में 6,015 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है.
 एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के आंकड़ों के अनुसार सतत खुली इक्विटी योजनाओं में 6,026 करोड़ रुपये का निवेश आया, जबकि एक निश्चित अवधि की योजनाओं से 11 करोड़ रुपये की निकासी हुई. इस तरह कुल निवेश का प्रवाह 6015 करोड़ रुपये रहा.
 इससे पहले सितंबर में इक्विटी और इक्विटी से जुड़ी बचत योजनाओं में 6,489 करोड़ रुपये का निवेश आया था. अगस्त में इस तरह की योजनाओं में 9,090 करोड़ रुपये, जुलाई में 8,092 करोड़ रुपये, जून में 7,585 करोड़ रुपये और मई में 4,968 करोड़ रुपये का निवेश आया था.
 हालांकि शेयर में निवेश करने वाले म्यूचुअल फंडों में निवेश का प्रवाह अक्टूबर में घटा है. लेकिन आंकड़ों के मुताबिक इनके प्रबंधन अधीन परिसंपत्तियों का मूल्य बढ़ा है.
 अक्टूबर में इनके प्रबंधन अधीन 7.9 लाख करोड़ रुपये की परिसंपत्तियां रहीं जो सितंबर में 7.6 लाख करोड़ रुपये की थीं. सभी तरह की म्यूचुअल फंड योजनाओं में अक्टूबर में कुल 1.33 लाख करोड़ रुपये का निवेश आया.

Related Articles

Back to top button
Close