छत्तीसगढ़

बूंद-बूंद जल संचय का संदेश देता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग का मॉडल

रायपुर
साईंस कालेज मैदान में आयोजित राज्योत्सव में लोक-स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के स्टॉल पर बूंद-बूंद जल की बचत मॉडल आकर्षण का केन्द्र है और यह लोगों के लिए सेल्फी जोन बन गया है। इस मॉडल में यह संदेश दिया जा रहा है कि दिन प्रतिदिन पीने योग्य पानी की कमी होती जा रही है, अगर आज हम जल का सदुपयोग नहीं करेंगे तो भविष्य में हमारे आने वाली पीढ़ी के लिए पेयजल उपलब्ध नहीं हो पाएगा।

प्रदर्शनी में नल जल योजना का चलित मॉडल, राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना मिनीमाता अमृत धारा योजना को प्रदर्शित किया गया है। इस योजनांतर्गत ग्रामीण अंचलों में गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों के लिए नि:शुल्क नल कनेक्शन प्रदाय किया जाना है। नल जल प्रदाय योजना और सतही स्रोत पर आधारित नल जल योजना की जानकारी को आकर्षित रूप में प्रदर्शित है। जिसमें सतही स्रोत के जल को उपचारित कर चयनित ग्रामों में उच्च स्तरीय जलागार के माध्यम से जल प्रदाय किया जाता है। इसी प्रकार अन्य योजनाएं जैसे कि जल शुद्धिकरण यंत्र आरो प्लांट की स्थापना और मुख्यमंत्री चलित संयंत्र योजना के माध्यम से स्वच्छ सुरक्षित पेयजल प्रदाय की मोबाइल यूनिट, वर्षा जल के संरक्षण एवं जल पुनर्भरण के बारे में भी जनता को जागरूक किया जा रहा है। नल जल योजना का चलित मॉडल स्थापित किया गया है। छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरूवा और बाड़ी को भी प्रदर्शित किया गया है जिसमें उच्च स्तरीय जलागार के माध्यम से जल प्रदाय दशार्या गया है। इसी के साथ-साथ ग्राम के स्कूल, आंगनबाड़ी, अस्पताल में भी जल प्रदाय को दशार्या गया है।

Related Articles

Back to top button
Close