छत्तीसगढ़

प्रदेश के बजट के अंदर ही कांग्रेस को अपना एजेंडा तैयार करना चाहिए था: रेणुका सिंह

सूरजपुर
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में धान की खरीदी (Paddy purchase) 2500 रुपए प्रति क्विंटल और बोनस (Bonus) के अलावा सेंट्रल पूल में चावल खरीदने की मांग को लेकर सूरजपुर (Surajpur) जिले समेत पूरे प्रदेश में केंद्र सरकार (Central Government) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन (Protest) शुरू हो चुका है.

कांग्रेस (Congress) केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) के खिलाफ सभी जिलों के ब्लॉकों से लेकर मुख्यालय तक विरोध प्रदर्शन कर रही है. बता दें कि छत्तीसगढ़ के एक लाख कांग्रेसियों और किसानों का काफिला दिल्ली जाएगा, जहां वे अपनी इन मांगों को लेकर आगामी 15 नवंबर को धरना देंगे.

वहीं इस बीच गृहग्राम सूरजपुर पहुंची केंद्रीय मंत्री व सरगुजा सांसद (Member of Parliament) रेणुका सिंह (Renuka Singh) ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को सोच समझकर अपना चुनावी एजेंडा तैयार करना चाहिए था. उन्होंने कहा कि प्रदेश के बजट के अनुकूल ही BJP शासन के कार्यकाल में काम किए गए थे. ऐसे में वर्तमान की कांग्रेस सरकार को भी प्रदेश के बजट के अंदर ही घोषणा करनी चाहिए थी.

रेणुका सिंह ने कहा कि वर्ष 2013 में पूर्व की बीजेपी सरकार ने भी धान का समर्थन मूल्य और बोनस देने की मांग की थी, लेकिन 2-3 साल तक न तो समर्थन मूल्य बढ़ा था और ना ही किसानों को बोनस दे पाए थे. दरअसल, केंद्र सरकार ने उस समय ये तय किया था कि जो प्रदेश सरकार धान का बोनस देने की बात करेगी, केंद्र वहां से उनका चावल नहीं खरीदेगी.

वहीं पिछले 1-2 वर्षों में केंद्र ने छत्तीसगढ़ के चावल को खरीदा था, लेकिन अभी कांग्रेस पार्टी ने जो लंबी चौड़ी घोषणा की है ये उनका मामला है. इसी को लेकर मंगलवार को कांग्रेस द्वारा आयोजित सर्वदलीय बैठक के लिए उन्हें बुलाया गया था, लेकिन सूरजपुर में आयोजित अन्य कार्यक्रम के कारण उनका जाना मुमकिन नहीं हो पाया. उन्होंने साफ कहा है कि केंद्र सरकार के खिलाफ  कांग्रेस का ये विरोध प्रदर्शन गलत है.

Related Articles

Back to top button
Close