राजनीति

झारखंड: बीजेपी के बागी को नीतीश का समर्थन

रांची
बिहार में एनडीए की मुख्य सहयोगी पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) ने मंगलवार को बीजेपी से बगावत करने वाले झारखंड के पूर्व मंत्री सरयू राय को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है। सरयू राय झारखंड विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ जमशेदपुर (पूर्वी) से चुनाव मैदान में हैं। जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के वरिष्ठ नेता राजीव रंजन सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी विधानसभा चुनाव में अकेले दम पर चुनावी मैदान में उतरेगी। उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि राय के पक्ष में पार्टी ने अपने संभावित उम्मीदवार को उस सीट से हटा दिया है। बता दें कि सिंह को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबियों में से एक माना जाता है और वह लोकसभा में जेडीयू के संसदीय दल के नेता भी हैं।

बता दें कि सरयू राय ने सोमवार को कहा था कि बिहार के मुख्यमंत्री के साथ उनकी नजदीकी थी इसीलिए बीजेपी ने उन्हें टिकट देने से मना कर दिया। वहीं, राजीव रंजन सिंह ने कहा, 'जेडीयू ने सरयू राय का समर्थन करने का निर्णय लिया है, जिहोंने निर्दलीय कैंडिडेट के रूप में नामांकन भरा है। हमारे संभावित उम्मीदवार ने जमशेदपुर ईस्ट सीट से अपना नाम वापस ले लिया है।' क्या नीतीश कुमार सरयू राय के लिए प्रचार प्रसार भी करेंगे, इस सवाल पर सिंह ने कहा, 'यदि राय आग्रह करेंगे तो…।'

'समय का लेख' किताब का किया था विमोचन
गौरतलब है कि राय ने रविवार रात कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था और इस बात का ऐलान किया था कि वह मुख्यमंत्री के खिलाफ चुनावी मैदान में उतरेंगे। उन्होंने सोमवार को इस बात का दावा भी किया कि उनकी बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नजदीकी थी इसीलिए बीजेपी ने उन्हें टिकट नहीं दिया है। राय ने इस पर तर्क देते हुए कहा, 'बीजेपी संसदीय दल के तीन सदस्य, जिन्होंने उम्मीदवारों के नामों का निर्धारण किया, उन्होंने मुझसे कहा कि वर्ष 2017 में मेरी किताब का विमोचन नीतीश कुमार के द्वारा किया गया था, जिससे पार्टी के नेता खासा नाराज थे। शायद इसी वजह से मुझे बाहर का रास्ता दिखाया गया।' नीतीश कुमार ने पटना में वर्ष 2017 में 'समय का लेख' किताब का विमोचन किया था।

23 दिसंबर को होगी वोटों की गिनती
नीतीश कुमार ने आरजेडी और कांग्रेस के साथ महागठबंधन के हिस्से के रूप में 2015 का बिहार चुनाव लड़ा था। इसके बाद तत्कालीन डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव पर तमाम आरोप लगे, जिसकी वजह से यह गठबंधन टूट गया और नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ मिलकर फिर से बिहार में सरकार बना ली। रघुवर दास और सरयू राय ने सोमवार को जमशेदपुर (पूर्वी) सीट से नामांकन दाखिल किया। झारखंड में पांच चरणों में (30 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच) मतदान होना है जबकि मतगणना 23 दिसंबर को होगी।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close