मध्य प्रदेश

जीतू पटवारी ने कहा शिवराज सिंह को चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए

 

भोपाल
मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री जीतू पटवारी ने पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान  लिए कहा कि उन्हें चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए. मसला किसान समस्याओं का था. पटवारी ने कहा किसानों की समस्याओं को लेकर शिवराज सिंह और उनकी पार्टी घड़ियाली आंसू बहा रही है.

किसानों के मुद्दे पर सोमवार को मध्य प्रदेश में कांग्रेस सड़क पर उतरी. बीजेपी भी बिजली बिल सहित तमाम समस्याओं को लेकर प्रदर्शन के लिए निकली. कमलनाथ सरकार के मंत्री जीतू पटवारी ने किसानों के बहाने पूर्व सीएम शिवराज सिंह और उनकी और पूरी पार्टी को लपेट लिया. पटवारी ने कहा शिवराज सिंह और पूरी बीजेपी सिर्फ घड़ियाली आंसू बहा रही है. बीजेपी को मेरे कुछ सवालों का जवाब देना होगा.

भेदभाव का आरोप
कमलनाथ सरकार में मंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, शिवराजजी आंदोलन कर रहे हैं. उन्हें अगर थोड़ी-सी भी शर्म हो तो, उन्हें चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए. किसान आपका झूठ और पाखंड देख रहा है.दिल्ली में हमें प्रदर्शन करना पड़ा तो हम पीछे नही रहेंगे.शिवराजजी, नेता प्रतिपक्ष राकेश सिंह से आग्रह है कि केंद्र सरकार पर दवाब बनाए और किसानों को राहत राशि दिलवाए.

किसान कर्ज़दार कैसे हुआ
जीतू पटवारी ने कहा शिवराज सिंह को मेरे कुछ सवालों के जवाब देना होगा. बीजपी के 15 साल के कार्यकाल में किसान इतना कर्ज़दार कैसे हुआ. आपने लगातार कृषि कर्मण अवॉर्ड लिए. फिर किसान की हालत ख़राब कैसे हुए. किसान इतना कर्ज़दार कैसे हुआ.
जीतू पटवारी ने कहा-किसानों का कर्ज़ माफ़ करने के लिए बीजेपी के पास कोई योजना नहीं थी. शिवराज सरकार ने मंदसौर में 6-6किसानों को गोलियों से भुनवा दिया. मध्य प्रदेश में बीजेपी और शिवराज सिंह के शासन के दौरान 15हज़ार किसानों ने आत्महत्या की. हज़ारों किसानों पर झूठे मुकदमे दर्ज किए गए.

जवाब दो
उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने पूर्व सीएम से जवाब मांगा कि आपकी सरकार में किसानों से वसूली होती थी. आपके लोग, मोटर साइकिल पर आकर किसानों के घर का सामान उठा ले जाते थे.भाजपा के नेताओ को कहना चाहता हूं कि जीतू पटवारी लोकतंत्र की व्यवस्था में जीता है.मैंने आलू और प्याज़ की बोरी तब उठाई थी जब वो फिक रहे थे.जीतू पटवारी ने कहा केंद्र सरकार मध्य प्रदेश के साथ भेदभाव कर रही है.

Related Articles

Back to top button
Close