देश

करोड़ों का नुकसान, धोखा, आर्थिक तंगी… कारोबारी ने इसलिए खत्म किया परिवार

 
गाजियाबाद

वैभवखंड की कृष्णा अपरा सफायर सोसायटी में रहने वाले जींस कारोबारी गुलशन वासुदेव ने अपनी दो पत्नियों परमीना उर्फ परवीन और संजना उर्फ गुलशन के साथ मंगलवार सुबह करीब 5 बजे 8वें फ्लोर से छलांग लगाकर खुदकुशी कर ली। कुछ गिरने की आवाज सुनकर पहुंचे गार्ड को सबसे पहले इसका पता चला। करीब सवा 5 बजे मिली सूचना के बाद पहुंची पुलिस घर के दरवाजे की कुंडी तोड़कर अंदर घुसी तो गुलशन की 18 साल की बेटी कृतिका और 14 साल के बेटे ऋतिक के शव मिले। उन दोनों की हत्या की गई थी। फ्लैट में पालतू खरगोश भी मृत मिला है।

मेसेज किया था- सबकुछ खत्म हो गया
शुरुआती जांच में सामने आया है कि बिजनस में मिल रहे धोखे से बढ़ी आर्थिक तंगी से परेशान होकर गुलशन ने यह कदम उठाया है। उनके दोस्त रमेश कुमार अरोड़ा ने बताया गुलशन ने मंगलवार सुबह करीब 3:38 बजे उनके पास वॉट्सऐप पर मेसेज कर सब कुछ खत्म होने की बात कही थी। इसके कुछ देर बाद विडियो कॉल कर बेडरूम में दोनों बच्चों की हत्या करने की बात कहते हुए वहां का मंजर और दीवार पर लिखा खुदकुशी का नोट भी दिखाया।

कुर्सियों पर चढ़कर कूदे
मूलरूप से दिल्ली की झिलमिल कॉलोनी में रहने वाले 45 साल के गुलशन वासुदेव 14 अक्टूबर को सोसायटी के फ्लैट नंबर A-806 में किराये पर रहने आए थे। इससे पहले वह इंदिरापुरम में ही एटीएस सोसायटी में रहते थे। उनका दिल्ली की गांधी नगर मार्केट में जींस बनाने का काम है। एसएसपी सुधीर कुमार ने बताया कि फ्लैट की बालकनी में 3 कुर्सियां मिली हैं। अंदाजा है कि इन्हीं पर चढ़कर तीनों ने नीचे छलांग लगाई होगी।
 
वहीं, बेटे ऋतिक का पहले गला दबाया, फिर किचन वाले चाकू से काटा गया है। बेटी कृतिका की हत्या भी गला दबाकर की गई है। बाथरूम से सल्फास की 4 गोलियां और एक इंजेक्शन मिला है। दीवार पर लिखे नोट में गुलशन ने रिश्ते में साढ़ू लगने वाले राकेश वर्मा को खुदकुशी के लिए जिम्मेदार ठहराया है। बताया जाता है कि वह साहिबाबाद के ही शालीमार गार्डन का रहने वाला है। पुलिस उसका पता लगा रही है।
 
पुलिस के मुताबिक, गुलशन को 4 साल पहले साढ़ू राकेश वर्मा से कारोबार में 2 करोड़ का धोखा मिला था। कर्ज की भरपाई के लिए उन्होंने झिलमिल का फ्लैट बेचा और बचे रुपयों से गांधीनगर में जीन्स मैन्युफैक्चरिंग का कारोबार शुरू किया। इस दौरान उन्होंने कोलकाता की सिटी लाइफ कंपनी में 80 लाख लगाए। लेकिन सोमवार रात 11 बजे ही उन्हें दोस्त से इस कंपनी के फ्रॉड कर भागने की जानकारी मिली। राकेश पर गुलशन ने केस किया था। राकेश और मां गिरफ्तार भी हुए, लेकिन अब राकेश कहां हैं, पता नहीं।
 

Tags

Related Articles

Back to top button
Close