छत्तीसगढ़

उपजेल ब्रेक के चार फरार कैदियों में से तीन गिरफ्तार

मुंगेली। मुगंगेली उपजेल को तोड़कर फरार हुए चार कैदियों में से तीन  कैदियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया,ये कैदी दीवाली मनाने अपने परिजनों के यहां पहुंचे जहां पहले से पुलिस सादी वर्दी में यहां पर नजर रखे हुए थी। पुलिस ने फरार  एक कैदी को भी जल्द पकड़े जाने की बात कही है। इन तीनों को पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार किया।
पकड़े गए कैदियों का नाम इंदल और तरुण है, जो कि 26 अक्टूबर को जेल का ताला तोड़कर फरार हो गए थे। फरार होने के बाद पुलिस इनकी तलाश कर रही थी। पुलिस ने इनकी तलाश के लिये मुखबिरों को लगाया हुआ था। बताया जाता है कल एक मुखबिर से सूचना मिली की दो कैदी अपने परिजनों से मिलने आने वाले है जैसे ही वे मिलने पहुंचे पुलिस ने उन्हें धरदबोचा।
पुलिस कप्तान चैनदास टंडन ने बताया कि चारों कैदी जिस दिन से भागे थे उनके परिजनों से पुलिस लगातार संपर्क में थी और पूछताछ की कर रही थी। इनकी पतासाजी के लिये पुलिस ने संभावित स्थानों पर अपने मुखबीर लगा दिए थे। जैसे ही पुलिस को इस बात की सूचना मुखबीर से मिली कि फरार दो कैदी दीपवाली पर परिवार से मिलने आने वाले हैं तो पुलिस ने वहां पर अपनी निगरानी और बल दोनों को बढ़ा दिया। पुलिस ने तीनों फरार कैदियों में से इंदर ऊर्फ इंद्र ध्वज को सिलतरा और तरूण केंवट को लोरमी के महरपुर से तथा सुरेश पटेल को जरहागांव गांव सेमरचुवा से गिरफ्तार किया पुलिस ने बताया कि पकड़े तीनों कैदी युपी बिहार भागने की जुगत में थे और इसी सिलसिले में वह अपने परिजनों से मिलने आ रहे थे। पुलिस ने बताया कि मध्य प्रदेश के रींवा में रहने वाला चौथा आरोपी धीरज की तलाश की जा रही है और उसे भी जल्द ही पकड़ लिया जायेगा।
उल्लेखनीय है कि इन कैदियों ने मुंगेली जेल के बैरक नंबर 3 की सलाखों को तोड़कर दीवार जेल की दीवार फांद कर फरार हो गए थे। इस  मामले में उपजेल अधीक्षक जनक लाल पुरैना ने जेल ब्रेक के बाद ड्यूटी में तैनात दो प्रहरियों कमल साहू और चेतन साहू को निलंबित कर दिया था। लेकिन इस घटना को सरकार ने गंभीरता से लेते हुए जेल प्रशास ने  उसके बाद जेल प्रभारी जनक लाल पुरैना को भी निलंबित कर दिया था। मुंगेली जेल ब्रेक इन कैदियों पर विभिन्न थानों में अपराध दर्ज हैं जिनके आधार पर पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार किया था।

Related Articles

Back to top button
Close