छत्तीसगढ़

ई-साक्षरता केन्द्रों में लोगों को मिल रही डिजिटल साक्षरता

 रायपुर

राज्य में आम लोगों को डिजिटल साक्षरता से जोड़ा जा रहा है। इसके लिए नगरीय निकाय क्षेत्रों में ई-साक्षरता केन्द्र संचालित किए जा रहे हैं। इन केन्द्रों में लोगों को राज्य शासन द्वारा संचालित की जा रही योजनाओं और सेवाओं का ऑनलाईन सुविधा प्राप्त करने और इंटरनेट बैंकिंग आदि के बारे में प्रशिक्षण दिया जा रहा है।     स्कूल शिक्षा विभाग के संचालक श्री एस. प्रकाश और समग्र शिक्षा के प्रबंध संचालक श्री पी. दयानंद ने स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों के दल के साथ नारायणपुर जिले के प्रवास के दौरान बंगलापारा स्थित ई-साक्षरता केन्द्र नारायणपुर का अवलोकन किया। यह केन्द्र जिला लोक शिक्षण समिति के तत्वाधान में शहरी क्षेत्र के डिजिटल असाक्षरों को साक्षर करने के लिए मुख्यमंत्री शहरी कार्यात्मक साक्षरता कार्यक्रम के तहत संचालित है।

    ई-साक्षरता केन्द्र के अवलोकन के दौरान स्कूल शिक्षा विभाग के संचालक श्री एस. प्रकाश ने प्रशिक्षणरत महिलाओं से बातचीत की। उन्होंने महिलाओं से मोबाइल, इंटरनेट, ऑनलाईन मोबाइल सेवा और सोशल नेटवर्किंग आदि के परिचालन के बारे में जानकारी ली। श्री प्रकाश ने महिलाओं से स्मार्ट फोन होने की जानकारी ली, अधिकांश प्रशिक्षणरत महिलाओं ने फोन होने की जानकारी दी। संचालक ने महिलाओं से कहा कि वर्तमान युग में सूचना प्रौद्योगिकी का ही बोल-बाला है। केन्द्र में प्रशिक्षणरत महिलाएं डिजिटल साक्षर होकर अपने जरूरी नेट संबंधी कार्य को सरलता और सुगमता से पूरा कर सकेंगी।

    स्कूल शिक्षा विभाग के संचालक ने गढ़बेंगाल में वोकेशनल प्रयोगशाला का भी अवलोकन किया। वहीं प्राथमिक शाला जाकर शिक्षकों से बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के साथ खास तौर पर पहली कक्षा के बच्चों को हिन्दी, अंग्रेजी, अक्षर ज्ञान पर विशेष ध्यान देने को कहा। उन्होंने कहा कि बच्चों को सरल और रोचक भाषा में पढ़ाएं। इस अवसर पर एस.सी.ई.आर.टी. की राज्य स्तरीय अधिकारी श्रीमती सुनीता जैन, समग्र शिक्षा के श्री कौशिक, एस.एल.एम.ए. के श्री प्रशांत कुमार पाण्डेय, लोक शिक्षण संचालनालय के श्री महेश कुमार नायक और श्री आर.के. तिवारी के दल के साथ ही नारायणपुर के जिला शिक्षा अधिकारी श्री जी.आर. मरकाम, जिला समन्वय राजीव गांधी शिक्षा मिशन श्री भवानी शंकर रेड्डी, सुश्री वर्षारानी भट्टाचार्य सहित शिक्षा विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
Close