रीवा। यूं तो बिजली विभाग को शिकायतें और लोगों के आक्रोश का अक्सर सामना करना पड़ता है। लेकिन गर्मी के दिनों में शिकायतों की संख्या अचानक तेजी से बढ़ जाती है। जैसे-जैसे पारा बढ़ रहा है बिजली विभाग की शिकायतों की सूची भी लम्बी हो रही है। सर्वाधिक शिकायतें रीवा और सतना जिले में सामने आ रही हैं। सीएम हेल्प लाइन में विद्युत संबंधी शिकायतों के आंकड़े पर नजर दौड़ाई जाए तो अकेले रीवा जिले में 929 शिकायतें लगभग अब तक हुई हैं। जबकि सतना में 19 अप्रैल की स्थिति में 392 शिकायत तो वहीं सीधी में 228 शिकायतें सीएम हेल्प लाइन के माध्यम से की गई हैं। सीएम हेल्प लाइन की दर्ज शिकायतों का निराकरण करने का प्रयास भी विभाग शुरू किए हुए है। विभिन्न विभागों में उसके जिम्मेदारों को निर्देश भी जारी किए गए हैं। साथ ही उन्हें निर्देशित किया गया है कि प्रतिदिन सीएम हेल्प लाइन से जुड़ी शिकायतों की मानीटरिंग की जाए। जिससे ज्यादा से ज्यादा शिकायतों का निराकरण हो सके। इन दिनों शिकायतों की संख्या ज्यादा होने के कारण इसका निराकरण गलती से नहीं हो पा रहा है। जिसकी जरूरत है। यही वजह है कि लंबित शिकायतों की संख्या बढ़ने लगी है।

क्यों बढ़ती हैं शिकायतें

गर्मी की वजह से केबिल युक्त तार गर्म होकर जल जाते हैं। इससे आए दिन आग लगने की घटनाएं हो रही हैं। बिजली के तार जब जलते हैं तो कई घरों की बिजली गुल हो जाती है। इस तरह लगभग हर प्रभावित व्यक्ति सीएम हेल्प लाइन में शिकायत करता है। तो इसी तरह गर्मी से राहत पाने के लिए पंखे और कूलर का इन दिनों भरपूर उपयोग किया जा रहा है। बिजली का लोड बढ़ने से ट्रांसफार्मर पर इसका सीधे भार पड़ता है और ट्रांसफार्मर जवाब दे जाते हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में थ्रेसरिंग का कार्य भी इन दिनों तेजी से चल रहा है। जिसके चलते ट्रांसफार्मर में समस्या आने के कारण लगातार शिकायतें सीएम हेल्प लाइन तक पहुंच रही हैं। इसी तरह कुछ हाल बिल की शिकायतों को लेकर भी है। बिजली के बिल संबंधी शिकायतों की बड़ी संख्या है। ज्यादातर लोगों का यही कहना रहता है कि उनके यहां उपयोग से ज्यादा बिजली का बिल विभाग भेज रहा है। कई क्षेत्रों में मीटर की रीडिंग नियमित रूप से नहीं होती है। मनमाने बिल भेज दिए जाते हैं। इस वजह से भी लोग सीएम हेल्प लाइन का सहारा लेकर उसमें शिकायत दर्ज करा रहे हैं।

रीवा रीजन में आते हैं 7 जिले

मप्र पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी अंतर्गत तीन रीजन आते हैं। जिसमें रीवा भी शामिल है। रीवा रीजन अंतर्गत रीवा और शहडोल संभाग के जिले शामिल हैं। जिसमें रीवा, सीधी, सतना सिंगरौली, शहडोल, उमरिया और अनूपपुर जिला शामिल है।

19 अप्रैल तक की गई शिकायतों पर एक नजर

जिला-संख्या

रीवा-929

सतना-392

सीधी-226

सिंगरौली-100

अनूपपुर-48

उमरिया-135

शहडोल-187

वर्जन

शिकायतों की संख्या गर्मियों में बढ़ जाती है। इसके लिए प्रयास किया जाता है कि बिजली संबंधी समस्याओं पर तत्काल निराकरण किया जाए और शिकायतों को प्राथमिकता के साथ लिया जा रहा है।

केएल वर्मा, अधीक्षण यंत्री, बिजली विभाग।