जयपुर। गोरक्षा के नाम पर गायों को ले जाने वाले लोगों के साथ हिंसा की खबरों के बाद अब कई लोग गायों को लाने ले जाने में डरने लगे हैं। ऐसे में राजस्थान के उन लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, जो इस पशुधन को खरीदने-बेचने का काम करते थे। ऐसे में व्यापारियों ने टेक्नोलॉजी की मदद से ऑनलाइन गायों को खरीदना-बेचना शुरू कर दिया है।

गाय बेचने के एक ऐसे कई विज्ञापन ऑनलाइन मीडियम में मौजूद हैं। अलग-अलग साइट पर दिए गए विज्ञापनों में गायों की कीमत 35 हजार रुपए से लेकर 50 हजार रुपए तक दी गई है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, ऐसे ही एक विज्ञापन में दिए गए नंबर पर संपर्क किया गया।

अलवर के रहने वाले सतीश यादव ने बातचीत में कहा कि यह काम हमेशा से जोखिम वाला रहा है। यूपी चुनाव में भाजपा की जीत के बाद यह जोखिम और बढ़ गया है। हम दूध देने वाली गायों को ही बेच रहे हैं। यादव ने कहा कि खरीददार अलवर आकर गाय को देख सकते हैं।

गाय पसंद आने के बाद यदि वे पैसे देते हैं, तो हम गाय को उनके घर पहुंचा देते हैं। इससे पहले गाय को बेचने से संबंधित सभी जरूरी दस्तावेजों की औपचारिकता पूरी की जाती है। कई अन्य लोग भी इसी तरह से गायों की खरीद-फरोख्त सुरक्षित तरीके से कर रहे हैं। उनका कहना है कि गौरक्षकों के डर से वे ऑनलाइन गायों को बेच रहे हैं।

गौरतलब है कि इस महीने अलवर में गो-रक्षकों ने डेयरी चलाने वाले पहलू खान को जमकर पीटा था। हमले में पहलू की मौत हो गई थी, जिसके बाद से इस पेशे से जुड़े लोग डर के साए में जी रहे हैं। इसके अलावा पुलिस ने गायों की तस्करी कर रहे चार लोगों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने उनके कब्जे से 60 गायों को छुड़ाकर गौशालाओं में भेज दिया था।