नयी दिल्ली : पिछले साल सितंबर महीने से भारत में अपने ग्राहकों को मुफ्त इंटरनेट डाटा और वॉयस कॉल की सुविधा देने वाली रिलायंस जियो को टक्कर देने के लिए कनाडा की मोबाइल हैंडसेट बनाने वाली कंपनी डाटाविंड ने भी कमर कस लिया है. संभावना जाहिर की जा रही है कि आने वाले दिनों में यह कंपनी महज 200 रुपये में साल भर के लिए डाटा (इंटरनेट) की पेशकश कर सकती है. इसके लिए कंपनी की अपने दूरसंचार सेवा कारोबार में 100 करोड़ रुपये निवेश की योजना है, जिसे वह लाइसेंस मिलने के बाद पहले छह महीनों में निवेश करेगी.

सस्ते स्मार्टफोन और टैबलेट बनाने वाली कनाडा की कंपनी ने पूरे देश में वर्चुअल नेटवर्क सेवाएं देने के लिए लाइसेंस के लिए आवेदन किया है. यह लाइसेंस मिलने के बाद कंपनी डाटा सेवाएं और मोबाइल टेलीफोनी सेवाओं को पेशकश करने में सक्षम होगी, लेकिन वह यह सेवा केवल किसी मौजूदा दूरसंचार सेवाप्रदाता के साथ साझेदारी करने के बाद ही दे पायेगी.

पहले पंजाबी शिक्षा टैबलेट को पेश करने के एक कार्यक्रम से इतर कंपनी के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनीत सिंह तुली ने कहा कि हमें एक महीने के भीतर लाइसेंस मिलने की उम्मीद है. डाटाविंड कारोबार शुरू करने के लिए पहले छह महीने में 100 करोड़ रुपये निवेश करेगी. कंपनी का ध्यान डाटा सेवाओं पर रहेगा.

डाटाविंड ने 3जी तकनीक पर आधारित ‘विद्याटैब-पंजाबी' पेश किया है. इसकी कीमत 3,999 रुपये रखी गयी है