भोपाल। विस में खनिज, वाणिज्य, उद्योग, रोजगार विभाग की अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान मंगलवार को विधायक जीतू पटवारी ने सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि ये देश का पहला प्रदेश है, जहां उद्योग मंत्री को पीएस हटा देता है। दरअसल, जीतू पटवारी, उद्योग मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया की बात कर रहे थे। पिछले मंत्रीमंडल विस्तार में उद्योग विभाग के पीएस सुलेमान के कहने पर सीएम ने यशोधरा राजे सिंधिया से उद्योग विभाग छीन लिया था। 

 

पटवारी ने कहा कि योग गुरु बाबा रामदेव पर सरकार खासी मेहरबान है। उनकी कंपनी को सबसे बड़ी छूट दी है।

मप्र में खनन माफियाओं ने लूट मचा रखी है। अफसर, नेता की मिलीभगत से देश का सबसे बड़ा अवैध खनन प्रदेश में होता है। उन्होंने कहा मेरे प्रश्न के उत्तर में इसकी बानगी है। अकेले सीहोर को लेकर नाम पढ़ने लगूं, तो दो दिन लग जाएंगे। मुझ पर मानहानि करने वालों की कलई खुल जाएगी। वहीं सुंदरलाल तिवारी ने मंत्री से उद्योगों को दी गई जमीन की कीमत पूछी।

कहीं लक्ष्मीकांत जैसी परेशानी न हो जाए 

मंत्री राजेंद्र शुक्ल ने कहा कि अवैध उत्खनन एवं परिवहन पर सख्ती से रोक लगाई है। किसी को राजनीतिक संरक्षण नहीं मिलेगा। प्रदेश में 100 नाके खोले जाएंगे। जिन पर रिटायर सैनिक रखे जाएंगे। 150 फीसदी अमला बढ़ा रहे हैं। गाड़ियों के ट्रेकिंग सिस्टम ला रहे हैं। खदान से प्रवेश करने वाली हर गाड़ी का हिसाब रहेगा। मंत्री ने कहा कि सीधे बंदरगाहों पर माल पहुंचाने और एयर कार्गो की व्यवस्था कर रहे हैं। इस पर डॉ. गोविंद सिंह ने कहा कि इसलिए रोक रहे हैं कि कहीं फंस न जाओ। लक्ष्मीकांत शर्मा जैसी परेशानी आएगी।