सीधी। पालतू पशु को लेकर जंगल गई 15 वर्षीय किशोरी को जान से मारने की धमकी देकर दुराचार करने के आरोपी को दस साल कैद व तीन हजार रूपये के जुर्माने की सजा सुनाई गई है। आरोपी के आर्थिक हालातों को देखते हुए शासन से पीड़िता को 50 हजार रूपये का प्रतिकर दिलाने का आदेश दिया गया है।

न्यायिक अभिरक्षा के दौरान काटी गई सजा को सुनाई सजा मे समायोजित करने का फैसला सुनाया गया है। प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश के हवाले से अपर लोक अभियोजक सीके अवधिया ने बताया कि मझौली थानाक्षेत्र के एक गांव की 15 वर्षी किशोरी के साथ गांव के ही 19 वर्षीय युवक ने जबरन दुष्कर्म किया था।

किशोरी ने मामले को घर मे बताने को कहा तो उसे जान से मार देने की धमकी देकर छा़ेड दिया। पीडिता के पिता की पहले ही मौत हो गई थी जिसके कारण उसने घटना की जानकारी भय वस किसी को नहीं दी। जिसके बाद जब भी वह जंगल जाती आरोपी पहुंचकर उसके साथ दुष्कर्म करता रहा।

किशोरी के गर्भवती होने पर आरोपी घर से भाग गया तो पीड़िता ने मामले की जानकारी परिजनों के अलावा गांव के लोगों को दी। सभी ने मिलकर 15 मार्च 2015 को थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई थी।