भोपाल .बोर्ड ऑफिस चौराहे पर लोगों की भीड़ के बीच हाथ एक शख्स हाथ जोड़कर एक महिला के पैर पकड़कर गिड़गिड़ाते हुए कहता है 'मेरी मां मुझे माफ कर दो'। गलती हो गई। आपका नंबर एक सार्वजनिक शौचालय से मिला था। अब कभी किसी को फोन नहीं करूंगा। आप तो मेरी मां के सामान हैं। गलती हो गई। मैं दोबारा ऐसा नहीं करूंगा।' लेकिन महिला का गुस्सा इतने से ही नहीं भरता।

वह कहती है 'क्या तुम अपनी मां-बहन को भी इसी तरह परेशान करते हो। हरकत करने के बाद हाथ जोड़कर माफी मांगने पर क्या वे तुम्हें माफ कर देंगी।' इतना कहते ही महिला अपना पूरा गुस्सा उतारते हुए मनचले के बाल पकड़कर उसे पीटना शुरू कर देती है। वह बचने के लिए यहां-वहां भागता है, लेकिन लोग पीछा कर उसे पकड़कर पुलिस के महिला के पास लाकर खड़ा कर देते हैं।

आरोपी करीक एक सप्ताह से महिला को फोन पर अश्लील बातें करके परेशान कर रहा था। इसी से तंग आकर बागसेवनिया निवासी पीड़िता ने उसे सोमवार शाम 5 बजे बोर्ड ऑफिस पर मिलने बुलाया था। महिला ने समझदारी दिखाते हुए मिलने के लिए भीड़-भाड़ वाली जगह बुलाया ही, वह अपने साथ अपने छोटे भाई को भी लेकर आई थी। आरोपी बाइक पर महिला से मिलने अकेला ही आया था।

महिला ने किया माफ

आरोपी के अपना नाम मंडीदीप निवासी विवेक बताते ही महिला ने फिर से उसे एक थप्पड़ रशीद कर दिया। महिला का आरोप था कि फोन पर वह अमित नाम से बात करता था। करीब पंद्रह मिनिट चले ड्रामे के दौरान कुछ लोगों ने भी उसकी पिटाई कर दी। महिला ने आरोपी का मोबाइल फोन छीन लिया था। काफी गिड़गिड़ाने के बाद उसने आरोपी को मोबाइल फोन लौटाते हुए जाने दिया।

शौचालय में मिला था नंबर

विवेक ने गिड़ाते हुए कहा कि उसने यह नंबर एक सार्वजनिक शौचालय में मिला था। वह नहीं जानता था कि महिला कौन है। हालांकि महिला का आरोप था कि आरोपी ने पहले कुछ और ही कहा था। उसका कहना था कि एक दुकानदार से यह उसे यह नंबर मिला था।

यह रखे ख्याल

-किसी भी अनजान नंबर से एक से अधिक बार फोन आने के बारे में परिजनों को बताएं और सुरक्षा के लिए पुलिस में भी शिकायतें करें।

-किसी भी अनजान फोन पर बात होने पर दोस्ती न करें।

-बुलाने पर कहीं भी बिना सुरक्षा के मिलने न जाएं।

-यहां भी कर सकते हैं शिकायत

डायल - 100

महिला हेल्प लाइन - 1090, 2443801