देश में पहली बार ट्रेन में हुई कैंसर की  4 घंटे सर्जरी 

सतना। ट्रेन में पहली दफा भारत का पहला कैंसर ऑपरेशन सफलतापूर्वक हो गया है। ये पहली दफा है जब लाइफलाइन ट्रेन में डॉक्टर्स ने किसी कैंसर पेशेंट का इलाज किया है। चार घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद पेशेंट की प्लास्टिक सर्जरी भी की गयी है।लाइलाज बीमारियों से जूझ रहे गरीब मरीजों के लिए लाइफ लाइन एक्सप्रेस जीवनदाता बनकर आई है। दो सप्ताह में इस चलित अस्पताल में कई क्रिटिकल ऑपरेशन कर लोगों को जीवनदान दिया गया। ऐसा ही मामला बीते शनिवार को आया।मुख कैंसर से पीडि़त व्यक्ति का चार घंटे तक कठिन ऑपरेशन किया गया। ऑपरेशन सफल होने के बाद प्लास्टिक सर्जरी की गई और बिड़ला अस्पताल में भर्ती कराया गया। लाइफलाइन ट्रेन में यह भारत का पहला कैंसर आपरेशन है।

चिकित्सकों की टीम ने किया ऑपरेशन

उचेहरा के पिपरीकला निवासी हीरालाल सोनी (52) मुख (माउथ) कैंसर से पीडि़त था। गत दिनों वह स्क्रीनिंग के लिए सतना आया। शुरुआती जांच में डॉक्टरों ने पाया कि मरीज का कैंसर थर्ड स्टेज पार कर चुका है। यह उसके जीवन के लिए घातक है। उसके बाद हीरालाल को ऑपरेशन की सलाह दी गई। उसकी सहमति बनने पर चिकित्सकों की टीम ने शनिवार को । टीम का नेतृत्व टाटा मेमोरियल के डॉ. पंकज चतुर्वेदी ने किया। जबलपुर से डॉ. प्रशांत जैन, कोलकाता से डॉ. अपूर्व व जिला अस्पताल सतना से डॉ. आलोक खन्ना, डॉ. आरके नेमा हिस्सा रहे।

डॉक्टर ने उसे बताया था ज्यादा पैसे की जरुरत पड़ेगी इलाज में

डॉक्टरों ने क्रिसमस की शाम ये सर्जरी की थी। इससे पहले दो से तीन दिन पहले ही हीरालाल इस मेडिकल ट्रेन में पहुंचा था। हीरालाल एक गरीब चाय वाला है और महीने भर में करीब 700 रुपए ही कमाता है। हीरालाल पिछले दो सालों से मुंह के कैंसर से पीडि़त है।पेशेंट के मुंह में कैंसर लगातार फैल रहा था और इसी के चलते जबड़े और गाल भी खून से रिसने लगे थे। अभी तक ये पेशेंट अपने इलाज पर करीब 20 हजार रुपए खर्च कर चुका था। जब उसे डॉक्टरों ने बताया कि आगे की सर्जरी करने के लिए ज्यादा पैसों की जरूरत पड़ेगी तो वो निराश हो गया था।

दो और मरीज सामने आए

लाइफ लाइन एक्सप्रेस विगत दो सप्ताह से सतना में सेवा दे रही है। इस ट्रेन में अभी तक 450 से ज्यादा सर्जरी हो चुकी हैं। 6000 से ज्यादा मरीजों ने लाभ उठाया है। स्क्रीनिंग के दौरान दो नए मरीज कैंसर के सामने आए हैं। उनका ऑपरेशन रविवार को किया जाएगा।

गाल-कान के बीच से निकाला ट्यूमर

एक अन्य गंभीर ऑपरेशन भी लाइफ लाइन एक्सप्रेस में किया गया। एक मरीज के गले व कान के बीच में ट्यूमर था। उसका ऑपरेशन स्थानीय चिकित्सकों ने जटिल बताया था। शनिवार को लाइफ लाइन में ढाई घंटे तक ऑपरेशन किया गया। जो सफल रहा। मरीज को स्वास्थ्य लाभ के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।