छिंदवाड़ा। परिवार परामर्श केन्द्र में शनिवार को आई एक महिला ने काउंसलर्स को बताया कि मेरी सास बहुत खतरनाक है, उनकी डांट सुनकर मैं थरथर कांपने लगती हूं। बहू ने काउंलर्स से सास को समझाने की गुहार लगाई। जब परामर्श केन्द्र में सास को बुलाया गया तो उसकी बातें सुनने के बाद काउसंलर्स की बोलती बंद हो गई। दरअसल सास ने बहू की एक नहीं कई गलतियां गिनाईं। हालांकि सभी गलतियां छोटी-छोटी थीं। सास की बातें सुनने के बाद इस मामले को विचाराधीन रखा गया।

 

 

 

 

 

परिवार परामर्श केन्द्र से मिली जानकारी के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाली एक विवाहिता ने आवेदन दिया कि उसकी सास बहुत खतरनाक है। जिसकी डांट सुनने के बाद वह थरथर कांपने लगती है। सास हर छोटी-छोटी बातों को लेकर तानें देतीं हैं, डांटती हैं। कई तरह के सवाल करती हैं। घर से बाहर जाने के लिए भी किसी से इजाजत लो या न लो लेकिन सास से इजाजत लेना जरूरी है। परिवार के बाकी सभी लो बहुत अच्छे हैं।

 

 

 

 

 

काउंसलर्स ने जब महिला की सास को बुलाया तो वह जवाब-सवाल करने वाली काउंलर्स पर ही भड़क गईं और काउंलर्स की बोलती बंद कर दी। दोनों पक्षों की बातें सुनने के बाद मामले को अगली पेशी के लिए विचाराधीन रखा गया। शनिवार को आए 12 पारिवारिक मामलों में से 4 परिवार के बीच सुलह करवाई गई। शेष मामलों को विचाराधीन रखा गया।