जबलपुर। संतों को राज्यमंत्री बनाने पर अापत्ति लेने वाले शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद के बयान पर कम्प्यूटर बाबा ने पलटवार किया। उन्‍होंने कहा-जगतगुरू शंकराचार्य सब जानते हैं। वो पूज्य हैं। उन्हें ऐसे बयान शोभा नहीं देते। वो खुद 100 लोगों की सुरक्षा गार्ड लगाकर रखते हैं। शंकराचार्य को कुछ बोलने की बजाए सहयोग करना चाहिए। सर्किट हाउस में राज्यमंत्री कम्पयूटर बाबा और पं. योगेंद्र महंत ने पत्रकारों से चर्चा की।

 

नर्मदा एक्शन प्लान पर गोलमोल जवाब

राज्यमंत्री कम्प्यूटर बाबा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कामकाज का खूब गुणगान किया और कहा कि नर्मदा संरक्षण के लिए संत समाज ने आयोग बनाने की मांग सीएम से की थी। इसी मांग को उन्होंने पूरा किया। हम (संत) परमार्थ के लिए विरोध कर रहे थे। उन्होंने हमें ही नर्मदा को स्वच्छ बनाने की जवाबदारी दी है। अब इस काम को कम्प्यूटर की गति से किया जाएगा।

उनसे जब नर्मदा स्वच्छता का एक्शन प्लान को लेकर सवाल हुआ तो वो गोलमोल जवाब देते रहे। कहा- काम तेजी से होगा। पौधरोपण और नालों की गंदगी को लेकर उनके पास कोई तैयारी नहीं थी लेकिन कहा कि नर्मदा को प्रदूषित करने वाले हर कारक को खत्म किया जाएगा।

संत हो या कोई किसी को नहीं छोड़ेंगे

नर्मदा किनारे संतों के आश्रम की गदंगी नर्मदा को प्रदूषित करने के सवाल पर राज्यमंत्री कम्प्यूटर बाबा ने कहा कि आम आदमी, राजनेता हो, संत हो जो भी प्रदूषण का कारक होगा, प्रदूषण खत्म किया जाएगा। इसमें कोई भेद नहीं होगा। सरकार की जवाबदारी से काम बेहतर होगा। सरकारी वाहन से तेजी से दौरे और जागरूकता फैलाई जा सकेगी।

दिग्विजय की व्यक्तिगत यात्रा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की नर्मदा यात्रा को लेकर पूछे सवाल पर कम्प्यूटर बाबा ने कहा कि शिवराज सिंह ने साधु-संतों के साथ यात्रा की। वहीं दिग्विजय सिंह ने अपनी पत्नी के साथ व्यक्तिगत यात्रा की। फिर भी यात्रा पुण्य का कार्य है।

महिला अत्याचार पर चुप्पी

महंत और कम्प्यूटर बाबा से जब प्रदेश में बढ़ते महिला अपराध पर सवाल हुआ तो दोनों चुप हो गए। पहले तो सिर्फ नर्मदा स्वच्छता को लेकर ही जवाब देने की बात की लेकिन पत्रकारों ने सामाजिक जवाबदारी और राज्यमंत्री होने का हवाला दिया तो शिवराज सरकार के कामों की तारीफ करने लगे। कहा महिलाओं की सुरक्षा के लिए पुख्ता कानून बने हुए हैं।