भोपाल। पुलिस ने आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम बूथ को गैस कटर से काटते हुए एक युवक को रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। घटना शुक्रवार रात ढाई बजे अशोक गार्डन थाने के नजदीक 80 फीट रोड की है। बदमाश ने सबसे पहले एटीएम बूथ में घूसकर आधा शटर लगा दिया और नोट बॉक्स के बाहर पासवर्ड के डिस्पेंसर को कटर से काट रहा था। पेट्रोलिंग कर रही पुलिस को एटीएम से चिंगारी निकलने पर शक हुआ तो उन्होंने शटर उठाकर देखा। जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि उसने यू-ट्यूब से एटीएम तोड़ने के तरीके सीखे थे। पुलिस ने दो दिन बाद घटना का खुलासा किया है।

अशोका गार्डन थाने के एएसआई मनोज यादव के अनुसार 80 फीट मेन रोड पर आईसीआईसीआई बैंक का एटीएम है। एटीएम का रख-रखाव एजीएस ट्रांजेक्ट टेक्नोलॉजी लिमिटेड करती है। एटीएम पर कोई सुरक्षा गार्ड तैनात नहीं है। शुक्रवार रात करीब ढाई बजे एटीएम का शटर गिरा हुआ था। गश्त कर रही पुलिस को संदेह हुआ, तो शटर उठाकर देखा। इसमें एक युवक एटीएम मशीन को गैस कटर से काट रहा था।

आरोपित की पहचान पुरुषोत्तम नगर सेमरा निवासी 19 वर्षीय गोपाल त्रिपाठी के रूप में हुई है। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह 12वीं तक पढ़ाई कर चुका है। दो माह पहले कॉल सेंटर से उसकी नौकरी छूट गई। आर्थिक तंगी से परेशान होकर उसने एटीएम में चोरी की साजिश रची।

सवा चार लाख की रकम रखी थी

पुलिस सूत्रों का कहना है कि एटीएम के कैश कैसेट में करीब सवा चार लाख रुपए की रकम रखी हुई थी। आरोपी एटीएम के पासवर्ड के करीब पहुंच गया था। अगर वह उसको तोड़ने में कामयाब हो जाता तो बड़ी वारदात हो सकती थी। इधर, पुलिस ने पुलिस ने एजीएस कंपनी के अफसर मानवेंद्र की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। एटीएम की सुरक्षा के संबंध में मानवेंद्र से बात की गई, तो उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

यू-ट्यूब से देखकर ढूढ़ा एटीएम तोड़ने का तरीका

एएसआई मनोज सिंह यादव ने बताया कि आरोपित गोपाल ने वारदात करने का तरीका यू-ट्यूब में देखा था। यू-ट्यूब पर ढाई सौ वीडियो को देखकर ही उसने सीसीटीवी कैमरे को ब्लॉक करने का तरीका (स्प्रे करके ब्लैक पेंट करना) सीखा था। ताकि वारदात के बाद पकड़ा ना सके। एटीएम में लगे अलार्म सिस्टम पर भी उसने छेड़खानी की है। वह नकाब पहनकर एटीएम में घुसा था।

पिता से अलग रहता है गोपाल

आरोपित ने पुलिस को बताया कि पांच साल की उम्र में वह पिता को छोड़कर मां के साथ अपने मामा के पास आकर रहने लगा था। 12वीं तक उसने पढ़ाई की। घर का खर्च चलाने के लिए कॉल सेंटर में नौकरी करने लगा। हाल ही में किसी कारण से उसकी नौकरी छूट गई। करीब दो माह से वह बेरोजगार है। आते जाते उसने रेकी कर एटीएम को चुना था। क्योंकि उस पर कोई सुरक्षा गार्ड नहीं रहता था।

डीआईजी के तबादले के बाद मेहरबानी दिखा रही पुलिस

डीआईजी संतोष सिंह के तबादले के बाद अशोका गार्डन में एटीएम में चोरी में पुलिस ने रखरखाव करने वाली कंपनी पर मेहरबानी दिखाई है। जबकि इसी तरह के मामले में पिपलानी में एटीएम में चोरी की वारदात पर डीआईजी के निर्देश के बाद रखरखाव करने वाली कंपनी राइटर पर एफआईआर दर्ज की थी। उनके अफसरों को मुंबई से भोपाल पूछताछ के लिए बुलवा लिया था।