इंदौर। देह व्यापार के लिए आॅनलाइन कॉलगर्ल और हाईप्रोफाइल मॉडल्स उपलब्ध कराने वाली इंदौर एस्कॉर्ट सर्विसेज के एक और फरार आरोपी को राज्य साइबर सेल इंदौर ने पकड़ लिया है। भाई के जेल में बंद हो जाने के बाद इस आरोपी ने पूरा काम अपने हाथ में ले लिया था। इसे इंदौर के गुलाबबाग कॉलोनी स्थित घर से गिरफ्तार किया।

साइबर सेल एसपी जितेंद्र सिंह ने बताया कि पूर्व में एस्कॉर्ट सर्विस देने वाली एजेंसी के संचालक और वेबसाइट सुबिना डॉट कॉम चलाने के मामले में हर्षल झा, सागर जैन ऊर्फ सैंडो, राहुल बत्ता को हिरासत में ले लिया था। पूछताछ में पता चला कि इन आरोपियों के जेल जाने के बाद अब सारा काम सागर जैन के भाई हेमंत जैन और धर्मेंद्र ऊर्फ कालू जैन देख रहे हैं।

पुलिस लगातार देह व्यापार से जुड़े लिंक पर नजर रखे हुए थे और साइबर सेल की कोशिश गिरोह के मौजूदा सरगना हेमंत जैन पर थी। ऐसे में साइबर सेल ने अपना मुखबिर तंत्र मजबूत कर रखा था। इसी दौरान मुखबिर ने सूचना दी कि हेमंत जैन अपने परिवार से मिलने आया हुआ है। तुरंत इस सूचना की तस्दीक की गई। तस्दीक होने के बाद पुलिस की टीम ने हेमंत जैन को गुलाब बाग कॉलोनी स्थित एक अपार्टमेंट में उसके फ्लैट से गिरफ्तार किया गया।

पूछताछ में हेमंत ने बताया कि वो एक सौदे के समय 1 घंटा और दो सौदे के समय 2 घंटें के लिए काॅल गर्ल्स उपलब्ध कराता है। हर सौदा 7 से 10 हजार रुपए में होती था। हेमंत ने ही सागर के साथ मिलकर हर्षल झा से एस्कॉर्ट सर्विस वाली वेबसाइट बनवाई थी। मुंबई, दिल्ली से जो काॅल गर्ल्स बुलवाई जाती थी उन्हें आॅन लाइन बुकिंग कर इंदौर के विजयनगर क्षेत्र स्थित बड़ी होटलों में ठहराया जाता था। उनका पैमेंट ग्राहक सीधे काॅल गर्ल्स को ही करते थे। बाद में लड़कियां हेमंत को उसका 50 प्रतिशन कमीशन नगद देती थीं। इसी तरह से देह व्यापार का ये हाईटेक व्यवसाय हो रहा। पुलिस के मुताबिक बंगाली चैराहा और फूटी कोठी से ये गतिविधियां संचालित हो रही थी। वेबसाइट के अलावा व्हॉट्सएप पर भी ये कारोबार चलाया जा रहा था। आरोपी उपलब्ध कॉल गर्ल के फोटो की डीपी लगाकर ग्राहकों से सम्पर्क करते थे।

फिलहाल पुलिस के मुताबिक हेमंत जैन को तो हिरासत में ले लिया गया है लेकिन उसका भाई धर्मेंद्र ऊर्फ कालू जैन अब भी फरार है। उसकी तलाश की जा रही है।