भोपाल। बहू दिनभर सोशल मीडिया चैटिंग करने में व्यस्त रहती है। मायके वालों से फोन पर बात करती हैं, खाने-पीने तक की पूरी बातें मायके वालों को बताती हैं। इससे वह हमारा ख्याल नहीं रख पाती है। महिला आयोग की बेंच में बहुओं की कुछ इस तरह की शिकायतें सास लेकर पहुंच रही है। बहू भी अपना पक्ष रखते हुए कहती है कि मैडम सास भी कभी बहू थी। आयोग इस तरह के मामलों में लगातार सास-बहू दोनों को समझाने का प्रयास करता है।

बहू की मां का भी बढ़ रहा हस्तक्षेप

कई मामलों में सास की शिकायत है कि उनकी बहू की मां हर मामले में हस्तक्षेप करती हैं। जिससे घर टूट रहा है। ऐसे में बेटा भी परेशान रहता हैं। अगर बोलता है तो झगड़ा होता है।

शहर में ही मायका, कभी भी चली जाती है घर

अवधपुरी निवासी शालिनी मालवीय (काल्पनिक नाम) ने अपनी बहू प्रिया मालवीय (काल्पनिक नाम) की शिकायत लेकर पहुंची। शिकायत थी कि बहू का मायका अरेरा कॉलोनी में है। बहू आए दिन मायके चली जाती है। जब मेरी दोनों बेटियां घर आती हैं तब वह जान-बूझकर चली जाती है।

वाट्सएप के कारण नहीं रखती ख्याल

लाल घाटी निवासी आशा सोलंकी (काल्पनिक नाम) ने अपनी बहू के खिलाफ आवेदन में शिकायत किया है कि उनकी बहू दिनभर मायके वालों से बातें करती है। साथ ही वाट्सएप पर चैटिंग भी जारी रखती है। जिससे वह हमारा ख्याल नहीं रखती है।

सास-बहू के झग़ड़ों के मामले बढ़ गए हैं। ऐसे मामलों में सास व बहू दोनों को समझाने का प्रयास करते हैं। लता वानखेड़े, अध्यक्ष, राज्य महिला आयोग