भोपाल (महेश पाटीदार)। रद्दी पेपर भी किसी की किस्मत बदल सकते हैं। जी हां ये साबित कर दिखाया है होशंगाबाद रोड स्थित शुभालय पर्ल कॉलोनी में रहने वाले पीडब्ल्यूडी से रिटायर्ड इंजीनियर रमेश चंद्र चतुर्वेदी (67) एवं उनकी पत्नी सरोज चतुर्वेदी (65) ने। इस बुजुर्ग दंपती ने गरीब बच्चों की मदद करने के लिए लोगों से रद्दी पेपर दान में मांगना शुरु किया।