पन्ना //
लाहौर से 280 किलो मीटर दूर स्थित श्री कटास राज तीर्थ स्थल है। जहां पर अज्ञात वास के समय पान्डवो द्वारा निर्मित प्रतिष्टित

शिवलिंग तथा पवित्र झील है। जिसके बारे में धार्मिक ग्रंथो में कथा प्रचलित है की राजा दक्ष की पुत्री सती के शरीर त्याग के उपरान्त

भगवान शंकर जब सती के शरीर को गोद मे लिये आकाश मार्ग से जा रहे थे तो उनके नेत्रो से जल की दो बुंदे गिरी थी एक बूंद भारत

की पुष्कर झील में तथा दूसरी बूंद कटास राज झील में गिरी थी और उन्ही बूंदो से उक्त झीलो का निर्माण हुआ था । यहां की यात्रा कर

लौटे पन्ना के विवेक खरे ने पत्रकारों के साथ अपने अनुभव साझा किये ।

श्री खरे ने बताया की पाकिस्तान की आम जनता भी समाजिक शांति तथा सौहार्द पूर्ण वातावरण चाहती है,।

पाकिस्तान के आम जन भी हम आप की तरह शांति प्रिय तथा संवेदनशील हैं । उन्होने बताया की भारत से गये सभी

तीर्थ यात्रियो का स्वागत पाकिस्तान सरकार के निर्देश पर लाहौर के चैयरमेन श्री सिद्दिक अल फारूख ने अपने प्रशासनिक अमले

के साथ आत्मीय ढंग से किया। वहां के नागरिको ने प्रसन्नता जाहिर करते हुये कहा की तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी

के समय से प्रारम्भ की गई शांति सद्भाव तथा मित्रता को आगे बढाने मे वर्तमान प्रधानमंत्री मोदी जी की सेली सराहनीय है, पाकिस्तान

के नागरिक भारत की तरह क्रिकेट के दिवाने है, वहां के खेल प्रेमी भारतीय खिलाडी विराट कोहरी तथा कप्तान महंेन्द्र सिंह धोनी के

जबर जस्त प्रशंसक है।

प्रति वर्ष पाकिस्तान सरकार महा शिवरात्रि एवं कार्तिक पुर्णिमा के पर्व पर अलग अलग दौ सौ तीर्थ यात्रियो को कटास राज झील की

यात्रा पर भारत के लोगो को आमत्रिंत करती है। इा वर्ष भी शिवरात्रि के पर्व पर देश के एक सौ पॉच लोग गये थे। मध्य प्रदेश से पॉच

सदस्य जिसमें पन्ना के विवेक खरे तथा उनकी चाची पुर्णिमा खरे गयी हुई थी ।

श्री खर ने बताया की लाहौर चैयरमेन के निवास पर रात्रि भोज में संगीत, भजन, एवं गजलो का भी कार्यक्रम हुआ जिसको वहां के

लोगो ने काफी प्रशंसा की।