आधे से ज्यादा हिस्सों में बाढ़, भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी
भोपाल । मध्य प्रदेश में मूसलाधार बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। लगातार हो रही बारिश ने भोपाल समेत कई इलाकों में जिंदगी की रफ्तार पर ब्रेक लगा दिया है। मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश के 35 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी कर रखा है। मध्यप्रदेश में 11 सितंबर तक सामान्य से 26 फीसदी से ज्यादा बारिश हो चुकी है। ज्यादातर हिस्सों में तो बाढ़ के हालात हैं। आने वाले 24 घंटों में राज्य के 35 जिलों में भारी से अति भारी बारिश हो सकती है। इसके चलते मौसम विभाग ने आरेंट अलर्ट जारी किया है। राजधानी में चार दिन से लगातार बारिश हो रही है। शहर के आसपास तीन सिस्टम सक्रिय होने से बारिश कम नहीं हो रही। स्थिति यह है कि बुधवार को दिनभर बादल छाए रहे है। शाम होते-होते बादल काफी नीचे आ गए। शाम को शहर में बादल सिर्फ 120 मीटर की ऊंचाई पर थे। इस वजह से मौसम केंद्र ने आज से भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। राजधानी सहित पश्चिमी मप्र में यह सिस्टम अगले 8 दिन तक सक्रिय रहने का अनुमान है। 
सुबह हुई भारी बारिश
राजधानी में गुरुवार तड़के 4.30 बजे से बारिश का दौर शुरू हो गया था। सुबह 5 से 7 बजे के बीच कहीं-कहीं भारी बारिश हुई। बारिश का यह दौर सुबह 9 बजे तक चलता रहा। इससे सुबह के ही तीन से चार घंटे में राजधानी में 53.7 इंच बारिश रिकार्ड हुई।
अब तक 61 इंच से ज्यादा बारिश
शहर में अब तक 61 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। अब तक राजधानी में 1566.6 इंच बारिश हो चुकी है, जो सामान्य से 572.9 मिमी यानी 23 इंच ज्यादा है। 
टूट सकता है 13 साल पुराना रिकार्ड
साल 2006 में 11 सितंबर तक 1589 मिलीमीटर बारिश हुई थी। पूरे सीजन में 1600 मिमी (64 इंच) वर्षा हुई थी, जबकि 2019 में 11 सितंबर तक कुल 1566.6 मिमी बारिश हो चुकी है। मानसून के सक्रिय रहने से यहां अब कुछ दिन और बारिश जारी रहने के अनुमान है। इसलिए इस साल भोपाल में बारिश का 13 साल पुराना रिकार्ड टूटने का अनुमान है।
साल 2017 और 2014 से दोगुनी बारिश
इस साल अब तक 1566.6 मिमी यानी 61 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। यह बारिश वर्ष 2017 और वर्ष 2014 में हुई बारिश से दोगुनी है। वर्ष 2017 में राजधानी में 781.0 मिमी यानी करीब 30 इंच बारिश हुई थी। वर्ष 2014 में शहर में 725.2 यानी 28.55 इंच बारिश हुई थी। इस साल इन दो सालों से दोगुनी बारिश हो चुकी है। 

राजधानी में बारिश का रेड अलर्ट
मध्यप्रदेश में इस हफ्ते भी मानसून एक्टिव रह सकता है। मौसम केंद्र का कहना है कि अगले पांच दिन तक राजधानी सहित प्रदेश भर में बारिश का दौर जारी रहेगा। उसने अगले 24 घंटों के लिए प्रदेश के 35 जिलों में बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है। इनके ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है, जबकि भोपाल के लिए रेड अलर्ट। राजधानी में बुधवार सुबह तीन-चार घंटे में ही दो इंच से ज्यादा बारिश हो गई। इस दिन डिंडोरी में सबसे ज्यादा 160 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि इंदौर में 76.0 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड हुई। प्रदेश में अब तक कोटे से 26 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है। मंदसौर में अब तक 120 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है। राजधानी में 78 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है। राज्य में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन प्रभावित हो गया। नदी-नालों के किनारों के गांव बाढ़ की चपेट में हैं। 

इन जिलों में बारिश की चेतावनी
इंदौर, धार, खंडवा, खरगोन, आलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, बुरहानपुर, उज्जैन, रतलाम, शाजापुर, आगर, देवास, नीमच, मंदसौर, भोपाल, रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, गुना, अशोकनगर, होशंगाबाद, हरदा, सागर, दमोह, टीकमगढ़, छतरपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, बालाघाट, नरसिंहपुर, अनूपपुर, डिंडोरी और जबलपुर जिलों में भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

बारिश के आंकड़े
शहर    बारिश
इंदौर     76.0
भोपाल     53.7
रीवा     27.8
नरसिंहपुर     22.0
शाजापुर     33.0
सागर     5.6
रायसेन     28.8
दमोह     11.0
डिंडौरी     160.6
सीहोर     64.0
हरदा     18.3
अनूपपुर     81.2
अमरकंटक     81.2
मंडला     34.0
होशंगाबाद     52.6
पचमढ़ी     46.6
छिंदवाड़ा     25.0
(बारिश मिलीमीटर में