नई दिल्ली: लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे अरुण जेटली शनिवार (24 अगस्त) को दिल्ली स्थित एम्‍स में अंतिम सांस ली. पिछले दिनों अरुण जेटली को एक्‍स्‍ट्राकारपोरल मेंब्रेन ऑक्‍सीजनेशन (ECMO) और इंट्रा ऐरोटिक बैलून (IABP) सपोर्ट पर रखा गया था. पीएम नरेंद्र मोदी ने पूर्व वित्त मंत्री के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्‍होंने अरुण जेटली की पत्‍नी और बेटे से फोन पर बातकर गहरा दुख जताया है. 

परिवार ने दौरा रद्द न करने की अपील की
अरुण जेटली के परिवार ने अपील की है कि पीएम मोदी अपना विदेश दौरा रद्द ना करें. बता दें कि पीएम मोदी संयुक्‍त अरब अमीरात के दौरे पर गए हैं. 

पीएम मोदी बोले- 'मैंने एक दोस्त खो दिया'
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर शोक जताया. पीएम मोदी ने कहा अरुण जेटली का राष्‍ट्र निर्माण में अहम योगदान है. मैंने उनके रूप में दोस्‍त को खो दिया है. अरुण जेटली जी राजनीतिक दिग्‍गज थे. पीएम मोदी ने कहा कि जेटली जी ने कई बड़ी जिम्‍मेदारियां निभाईं. हमें हमेशा उनकी कमी खलेगी. अरुण जेटली जैसी समझ बहुत कम नेताओं में है.


अमित शाह लौट रहे हैं दिल्ली
बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता अरुण जेटली के निधन की खबर सुनकर गृह मंत्री और बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह अपने हैदराबाद दौरे को बीच में खत्‍म करके दिल्‍ली लौट रहे हैं. अमित शाह ने कहा कि अरुण जेटली जी के निधन से मुझे गहरा आघात लगा है. उनके निधन से मुझे व्‍यक्तिगत क्षति पहुंची है. मैंने एक वरिष्‍ठ पार्टी नेता ही नहीं खोया, बल्कि एक ऐसा महत्‍वपूर्ण पारिवारिक सदस्‍य खोया है जो हमेशा मेरे लिए मार्गदर्शक रहेंगे. वहीं, उप राष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू भी आंध्र प्रदेश के दौरे को बीच में रद्द करके दिल्‍ली आ रहे हैं.

मोदी सरकार में रहे संकटमोचक
जेटली मोदी सरकार के सबसे बड़े संकटमोचक थे. जब-जब मोदी सरकार मुश्किल में आई, वे सामने आए, उन्होंने सरकार का पक्ष मजबूती रखा. लगभग हर बड़े मुद्दे पर सरकार का बचाव किया जेटली को वाजपेयी सरकार में कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया था. तब उन्हें उद्योग एवं वाणिज्य और कानून मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया था.


पिछले कुछ महीने से लगातार गिर रही थी सेहत
पिछले दिनों अरुण जेटली को एक्‍स्‍ट्राकारपोरल मेंब्रेन ऑक्‍सीजनेशन (ECMO) और इंट्रा ऐरोटिक बैलून (IABP) सपोर्ट पर रखा गया था. पिछले कुछ महीनों में वित्त मंत्री अरुण जेटली की सेहत लगातार गिर रही है. खराब सेहत की वजह से ही उन्होंने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था और खुद को मोदी कैबिनट-2 में खुद को शामिल न करने के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा था.