मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन का समग्र विकास करना उनकी बहुत पुरानी आकांक्षा थी। राज्य सरकार ने भगवान महाकाल के संपूर्ण परिसर के विकास और श्रद्धालुओं की सुविधा की दृष्टि से अन्य व्यवस्थाओं के लिए 300 करोड़ रुपए की योजना बनाई है।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि इस योजना के क्रियान्वयन के लिए समयबद्ध कार्यक्रम बनाया जाएगा और इसका क्रियान्वयन समय पर हो, यह सुनिश्चित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना में महाकाल के दर्शन के‍लिए आने वाले तीर्थयात्रियों की बढ़ती हुई संख्या का भी विशेष ध्यान रखा गया है। इसके आधार पर ही महाकाल मंदिर परिसर का विकास और विस्तार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस योजना के पूरे होने से उज्जैन के रहवासियों को भी लाभ होगा। यहाँ की आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ेंगी और लोगों को रोजगार मिलेगा।

मध्यप्रदेश की पहचान भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन से है। यह एक महान और दिव्य स्थान है। यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए उनके लिए आकर्षक सुविधाएँ जुटाई जाएँगी ताकि वे यहाँ रुकने के लिए प्रेरित हों।