नई दिल्लीः 4 राज्यों में बाढ़ का कहर जारी है. केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र और गुजरात में आई भीषण बाढ़ से लाखों लोगों प्रभावित हुए हैं. 4 राज्यों में हुई बारिश से अब तक 194 लोगों की मौत हो चुकी है. कर्नाटक में भी बाढ़ कहर बनकर टूट रही है. मध्य प्रदेश के कई जिले भीषण बाढ़ का प्रकोप झेल रहे हैं. यहां भी 32 लोगों की मौत की खबर है. इसके अलावा महाराष्ट्र के सांगली में बाढ़ के हालात ऐसे हैं कि जिन सड़कों पर गाड़ियां दौड़ती थीं वहां आज नाव चल रही है. शहर की दुकानें, बाजार, मॉल सब सैलाब में लापता हो गए हैं. केरल मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने कहा कि आठ प्रभावित जिलों में भूस्खलन की 80 घटनाओं की सूचना मिली है, जिससे सर्वाधिक क्षति पहुंची है. इनमें वायनाड जिले का मेप्पादी, मल्लपुरम जिले का कवलपारा शामिल हैं.
लगातार बारिश के कारण कर्नाटक में हालात खराब हैं. रविवार को देश के गृहमंत्री अमित शाह ने कर्नाटक का हवाई दौरा किया. इस दौरान उनके साथ राज्‍य के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा भी थे. येदियुरप्‍पा ने कहा, गृहमंत्री ने यहाँ पूरा समय दिया है. हमने उनसे 3000 करोड़ की सहायता की मांग की है.
इस समय 70 से ज्‍यादा जिले बाढ़ के कारण परेशान हैं. मैं 16 अगस्‍त को दिल्‍ली जा रहा हूं. बता दें कि रविवार को निपानी, चिकोड़ी, बड़गाव, सांगली में अमित शाह ने सर्वे किया. कर्नाटक में कई शहरों में तीन मंजिला मकान तक पानी में डूबे हैं. 
राहुल गांधी बाढ़ प्रभावित अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड पहुंचे
वायनाड से लोकसभा सांसद और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी रविवार दोपहर को यहां बारिश और बाढ़ से प्रभावित अपने संसदीय क्षेत्र में पहुंचे. बारिश और बाढ़ से केरल के वायनाड में सबसे ज्यादा क्षति पहुंची है. अभी तक 203 शिविरों में करीबन 40 हजार से ज्यादा लोगों ने शरण ली हुई है और रिपोर्ट के अनुसार 18 लोगों की इस त्रासदी में मौत हो गई है.

केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने रविवार को कहा कि पिछले कुछ दिनों में राज्य में भारी बारिश हुई है और इसके कारण मृतकों की संख्या 60 तक पहुंच गई है. आपदा प्रितिक्रिया टीम की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद मुख्यमंत्री विजयन ने कहा कि इस बार के हालत पिछले साल जितने खराब नहीं हैं, जब पूरा राज्य तबाह हो गया था। इस बार कुछ ही जिले इस प्रकार की समस्या से प्रभावित हैं.
महाराष्‍ट्र में एनडीआरएफ की टीम राहत और बचाव कार्य में लगी है. यहां पर गांव के गांव बाढ़ के पानी में डूबे हैं. ऐसे में एनडीआरएफ की टीम लोगों तक खाद्य सामग्री भी पहुंचा रही है.
कर्नाटर में लगातार बारिश हो रही है. होशानगर में बारिश होने कारण एनडीआर की टीमों का काम मुश्किल हो गया है. चकरा डैम और सेवखेलु जलाशय भर गया है. 
कन्नूर में मछुआरे और प्रांतीय सेना साझा तौर पर बाढ़ प्रभावित इलाक़ों में राहत और बचाव का काम कर रही है. वायनाड के कलेक्टर ने बताया है कि अपना घर और संपत्ति को छोड़कर 1 हज़ार से ज़्यादा लोग स्कूल और शेल्टर्स में रह रहे हैं. बाढ़ के चलते लोगों के घर में रखा सारा सामान बाढ़ में बह गया है.
केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन: राज्य में आज तक 60 मौतों की पुष्टि की है.
4 राज्‍यों में बाढ़ के कारण हालात बेहद खराब हैं. सेना, वायुसेना, नौसेना, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों के अलावा कोस्‍ट गार्ड की टीमें भी इन राज्‍यों में बचाव कार्य में जुटी हुई हैं. महाराष्‍ट्र में 16 डिजास्‍टर रिस्‍पांस टीमें लगाई गई हैं. साथ ही कर्नाटक में 6 और केरल में 3 टीमें तैनात हैं. कुल 53 डिजास्‍टर रिस्‍पॉन्‍स टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हैं. गोवा से कोस्‍ट गार्ड की टीमें भी महाराष्‍ट्र के कोल्‍हापुर में भेजी गई हैं. कोस्‍ट गार्ड की टीमों की ओर से अब तक 3515 लोगों को अब तक बचाया गया है.