बेंगलुरु: कर्नाटक में जारी सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं. कुमारस्वामी को सोमवार (22 जुलाई) को विधानसभा में विश्वासमत साबित करना है. वहीं, इससे पहले रविवार को कर्नाटक के दो निर्दलीय विधायकों ने कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन की सरकार की मुश्किलों को और बढ़ा दिया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, कर्नाटक के दो निर्दलीय विधायक एच नागेश और आर शंकर ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई है. दोनों विधायकों ने सुप्रीम कोर्ट से विश्वासमत के मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की है. विधायकों ने सुप्रीम कोर्ट से कर्नाटक सरकार को सोमवार को ही विश्वासमत साबित करने के आदेश देने की मांग की है.

इन दोनों विधायकों ने याचिका में कहा है कि उन्हें डर है कि सीएम कुमारस्वामी सोमवार को मेडिकल इमरजेंसी का हवाला देकर विश्वासमत को टालने का प्रयास कर सकते हैं. कर्नाटक में जहां कुमारस्वामी की सरकार बचाने के लिए एक-एक वोट जरूरी है. वहीं, प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के एकलौते विधायक एन महेश को मायावती ने आदेश दिया है कि वह सरकार के पक्ष में मतदान करें. इससे पहले कहा जा रहा था कि वह विश्वासमत से दूर रहेंगे.


बता दें कि बीएसपी ने बीते साल हुए कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जेडीएस के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा था. इससे पहले कर्नाटक विधानसभा में शुक्रवार को भी बहुमत परीक्षण नहीं हो पाया था. राज्यपाल वजुभाई वाला की ओर से मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए शुक्रवार शाम 6 बजे तक का समय दिया गया था लेकिन कुमारस्वामी निर्धारित समय तक बहुमत साबित नहीं कर सके. बाद में कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष रमेश कुमार ने शुक्रवार को सदन की कार्यवाही 22 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दी थी.