नई दिल्ली । भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान और एआईएफएफ फुटबॉलर अवॉर्ड से सम्मानित सुनील छत्री ने कहा है कि वह ओलंपिक पदक विजेता महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम के प्रशंसक हैं और मैरीकॉम से उन्हें प्रेरणा मिलती है। छेत्री ने कहा कि अवॉर्ड मिलने से बेहतर प्रदर्शन करने का उत्साह बढ़ता है और यह हमेशा हमारी जिम्मेदारियों का अहसास कराता है। सच कहूं तो मुझे कभी इतना समय नहीं मिला कि मैं यह सोच सकूं कि मैंने जीवन में क्या पाया है।छेत्री को हाल ही में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का अवॉर्ड छठी बार मिला है। उन्हें इससे पहले वर्ष 2007, 2011, 2013, 2014 और 2017 में भी यह अवार्ड मिला था। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय गोलों के मामले में अर्जेंटीना के स्टार फुटबालर लियोनल मैसी को पीछे छोड़ दिया है। छेत्री ने अहमदाबाद में चल रहे इंटर कांटिनेंटल कप में ताजिकिस्तान के खिलाफ दो गोल कर मैसी को पीछे छोड़ा था। 
उन्होंने कहा कि  मुझे बस इस बात की खुशी है कि मैं अपने देश के लिए खेल रहा हूं और मैं इसका आनंद ले रहा हूं। मैंने कभी 100 से ज्यादा मैच खेलने को लेकर, कितने गोल किए या छह बार एआईएफएफ फुटबॉल अवॉर्ड मिलने को लेकर नहीं सोचा है। यह सब मैं तब सोचूंगा जब इस खेल से संन्यास ले लूंगा।