श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों की सख्ती से आतंकी संगठन बौखला गए हैं. लगातार ऑपरेशन के बाद भी आतंकी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं. खुफिया विभाग से सूचना मिली है कि आतंकी पुलवामा में एक बार फिर से बड़ी वारदात को अंजाम देने की प्लानिंग कर रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि कश्मीर को अशांत करने के लिए सीमापार नए सिरे से प्लानिंग की गई है. इस प्लानिंग को अंजाम तक पहुंचाने के लिए पाकिस्तान से आतंकी घुसपैठ कराए गए हैं. बताया जा रहा है कि 6-8 आतंकी कश्मीर में घुसपैठ कर चुके हैं.

बताया जा रहा है कि ये आतंकी अच्छे तरीके से प्रशिक्षित किए गए हैं. साथ ही आतंकियों के आकाओं ने खुद इनके अंदर नफरत के बारूद भर दिए हैं. सुरक्षा बलों के सामने बड़ी चुनौती है कि वह इन ट्रेंड आतंकियों को किसी वारदात से पहले कैसे गिरफ्तार कर पाती है.

सूत्रों का कहना है कि भारत में दाखिल हुए इन आतंकियों को जिम्मेदारी दी गई है कि वह 8 जुलाई को या उसके आसपास की तारीख को बड़ी वारदात को अंजाम दें. दरअसल 8 जुलाई को ही बुरहान वानी मारा गया था. आतंकी स्थानीय युवाओं को भड़काने के लिए बुरहान वानी को पोस्टर ब्वॉय के रूप में इस्तेमाल करते हैं.


बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद कश्मीर में बड़े पैमाने पर जनाजा यात्रा निकाली गई थी. इसके जरिए स्थानीय युवाओं के मन में बुरहान वानी के प्रति सहानुभूति पैदा की गई थी. आतंकी हमेशा चाहते हैं कि बुरहान वानी को युवाओं के बीच जिंदा रखने के लिए 8 जुलाई के आसपास बड़ी वारदात को अंजाम देने की कोशिश करते हैं.
हालांकि सुरक्षा बलों और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने भी एहतियातन तैयारियां कर ली हैं. खुफिया विभाग को भी चौकन्ना कर दिया गया है. साथ ही संदिग्धों पर नजर रखी जा रही है. किसी भी आतंकी वारदात से निपटने के लिए सुरक्षाबलों ने अपने स्तर से तैयारी कर ली है. देखना होगा कि आतंकी अपने मंसूबे में कामयाब होत हैं या सुरक्षाबलों की जीत होती है.