जबलपुर: मध्य प्रदेश में रिटायर्ड SDO सुरेश उपाध्याय के घर पर आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (EOW) ने मंगलवार को छापेमारी की. जबलपुर की टीम ने बिलहरी स्थित आनंदतारा के बंगला नंबर 42 पर छापेमारी की. ईओडब्ल्यू को सूचना मिली थी कि पीएचई से रिटायर्ड हुए अधिकारी सुरेश उपाध्याय के पास आय से अधिक संपत्ति है. इसके बाद डीएसपी राज्यवर्धन महेश्वरी के नेतृत्व में 50 से ज्यादा लोगों की टीम ने सुरेश उपाध्याय के घर पर दबिश देकर जांच शुरू की है. 

ईओडब्ल्यू की टीम ने बिलहरी स्थित उपाध्याय के घर और अन्य चार स्थानों पर भी छापेमारी की. ईओडब्ल्यू की टीम ने सुरेश उपाध्याय के पैतृक निवास भीटा कजरवारा सहित सदर में उनके कार्यालय में भी कार्रवाई की है. जांच में ईओडब्ल्यू को आय से अधिक संपत्ति की जानकारी मिली है. जब ईओडब्ल्यू की टीम ने सुरेश उपाध्याय के घर पर छापेमारी की उस समय उनका पूरा परिवार सो रहा था. 

सुरेश उपाध्याय का बिलहरी में जिस जगह बंगला है उसकी कीमत ही करोड़ों में आंकी जा रही है. इसके अलावा पीएचई से रिटायर अधिकारी के पास आधा दर्जन से ज्यादा चार चक्के की गाड़ियां भी मिली है. अभी तक की जांच में ईओडब्ल्यू ने पाया है कि पीएच अधिकारी सुरेश उपाध्याय ने अपनी काली कमाई पत्नी, बेटे और बेटी के नाम भी की है. 


जबलपुर के ईओडब्ल्यू विभाग के डीएसपी राज्यवर्धन माहेश्वरी ने बताया कि कोर्ट से वारंट लेकर सुरेश उपाध्याय के घर पर छापेमारी की गई है. हालांकि अभी तक कितनी काली कमाई सुरेश उपाध्याय के पास से है इसका पूरी तरह से खुलासा ईओडब्ल्यू ने नहीं किया है. 
बताया जा रहा है कि पीएचई का रिटायर्ड SDO सुरेश उपाध्याय के पास 400 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति है. सुरेश उपाध्याय को वेतन को वेतन के हिसाब केवल 53 लाख 26 हजार 438 रुपए की आय हुई है. इसके बावजूद उनके पास आलीशान बंगला, करोड़ों की जमीन और लग्जरी कारों का काफिला है. जबलपुर में EOW के 65 लोगों की टीम ने चार ठिकानों पर छापेमारी की.

बताया जा रहा है कि इनके पास 200 एकड़ जमीन, 150 भूखंड, कई कंपनियों में करोड़ो का निवेश है. EOW को छापे के दौरान मिले दस्तावेज से 400 करोड़ की चल-अचल संपत्ति का पता चला है.
मंगलवार को EOW की 65 लोगों की टीम ने मंगलवार को जबलपुर में उपाध्याय के 4 ठिकानों पर छापे मारे थे. छापे में 200 एकड़ जमीन, 150 भूखंड(प्लाट), दो किलो सोना, 5 किलो चांदी, ढाई लाख रुपए नकदी और कई कंपनियों में निवेश का पता चला है.
सुरेश उपाध्याय की पत्नी अनुराधा 10 साल पहले BJP की पार्षद चुनी गई थी. इनका बेटा सचिन बिल्डर है. EOW ने सुरेश उपाध्याय, पत्नी अनुराधा उपाध्याय, पुत्र सचिन उपाध्याय पर धारा 120 बी, 13-1 भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत अपराध कारित किया जाने पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.