बिहार में शिक्षा विभाग ने बुधवार को दो बड़ा फैसला लिया है। विभाग ने प्रदेश के TET टीईटी और STET एसटीईटी सर्टिफिकेट धारकों की वैधता दो साल के लिए बढ़ा दी है और विभाग ने प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकों की बड़ी संख्या में नियुक्ति करने का ऐलान भी किया है।

विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक बिहार में एक लाख 38 हजार शिक्षकों की बहाली की जाएगी, जिसमें टीईटी और एसटीईटी पास छात्रों को तवज्जो दी जाएगी। शिक्षा विभाग के इस फैसले से TET टीईटी और STET एसटीईटी से पास 82 हजार छात्रों को फौरी राहत मिल गई है।

शिक्षा विभाग के इस फैसले के तहत वर्ष 2011 और 12 में पास छात्रों को फायदा होने वाला है। ये अभ्यर्थी अब नियुक्ति की प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं। इस फैसले से TET टीईटी और STET एसटीईटी पास अभ्यर्थियों के बीच खुशी का माहौल है।

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने  इस फैसले की जानकारी देते हुए कहा किSTET की डिग्री की वैधता दो साल बढ़ाई गई है। वर्ष 2011 और 2012 में TET उतीर्ण एक लाख 11 हजार 984 उमीदवारों के प्रमाणपत्रों की वैलिडिटी मई 2019 को खत्म हो गयी थी। उनके प्रमाणपत्रों की अवधि को भी दो साल बढ़ा दिया गया है।