नई दिल्ली: आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (World Cup 2019) में बेहतरीन शुरुआत करने वाली टीम इंडिया को शिखर धवन (Shikhar Dhawan) की चोट से दोहरी मार पड़ी है. इससे ना सिर्फ भारत की जमी-जमाई ओपनिंग जोड़ी बिखर गई है. बल्कि टीम इंडिया (Team India) का मध्यक्रम भी गड़बड़ा गया है. भारत विश्व कप में अपने पहले दो मैच जीत चुका है. उसका तीसरा मैच गुरुवार को न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) से होना है. अब देखना है कि भारत इस मैच में कि कॉम्बिनेशन के साथ उतरता है. 

शिखर धवन को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रविवार को खेले गए मैच के दौरान बाएं हाथ के अंगूठे में चोट लग गई थी. हालांकि, तब वे चोट के बावजूद खेलते रहे और 117 रन की शानदार पारी खेली. लेकिन धवन फील्डिंग करने नहीं उतरे. उनकी जगह रवींद्र जडेजा ने फील्डिंग की. धवन के अंगूठे की सूजन जब सोमवार को भी कम नहीं हुई, तो मंगलवार को इसका स्कैन कराया गया.

टीम सूत्रों के मुताबिक शिखर धवन एक से तीन हफ्ते तक के लिए बाहर हो सकते हैं. माना जा रहा है कि धवन अब भारत के अगले दो मैच नहीं खेल पाएंगे. भारत के अगले दो मैच 13 और 16 जून को होने हैं. 13 जून को भारत और न्यूजीलैंड और 16 जून को भारत और पाकिस्तान के मैच खेले जाने हैं. शिखर धवन ने मौजूदा वर्ल्ड कप में दो मैच खेले हैं. उन्होंने इन मैचों में 8 और 117 रन की पारी खेली है.

धवन की जगह राहुल करेंगे ओपनिंग
अगर शिखर धवन नहीं खेलते हैं तो भारत के सामने दो समस्याएं आने वाली हैं. पहली यह कि उनकी जगह ओपनिंग कौन करेगा. हालांकि, इस सवाल के जवाब के लिए टीम इंडिया को ज्यादा माथापच्ची नहीं करनी पड़ेगी. भारत की 15 सदस्यीय टीम में केएल राहुल को तीसरे ओपनर के तौर पर ही चुना गया है. वे अच्छी फॉर्म में भी हैं. 

लेकिन राहुल तो चौथे नंबर पर खेल रहे हैं?  
हां, यह सही है कि केएल राहुल को वॉर्मअप मैचों में कामयाबी के बाद वर्ल्ड कप के मैचों में नंबर-4 पर उतारा गया. लेकिन जब टीम इंडिया चुनी गई थी, तब वे नंबर-4 के लिए पहली पसंद नहीं थे. तब नंबर-4 के लिए विजय शंकर को चुना गया था. दिनेश कार्तिक भी एक विकल्प हैं. 

ऋषभ पंत रेस में सबसे आगे
अगर शिखर धवन टीम से बाहर होते हैं, उनकी जगह ऋषभ पंत को मौका मिल सकता है. पंत उन खिलाड़ियों में से हैं, जिन्हें चयनकर्ताओं ने रिजर्व खिलाड़ियों में चुना है. आमतौर पर किसी खिलाड़ी के चोटिल होने पर रिजर्व खिलाड़ी को ही मौका मिलता है. लेकिन यह बाध्यता नहीं है. अगर चयनकर्ता और टीम प्रबंधन किसी और खिलाड़ी को चुनना चाहें तो वे ऐसा कर सकते हैं. ऐसे मामले में कप्तान की राय सबसे अहम होती है. 

अजिंक्य रहाणे भी रेस में
यह तय है कि शिखर धवन के जाने से ओपनिंग जोड़ी कमजोर होगी. राहुल भले ही फॉर्म में हों, लेकिन उन्होंने पिछले 20 महीने में सिर्फ एक बार ही ओपनिंग की है. ऐसे में राहुल-रोहित की जोड़ी को धवन-रोहित की जोड़ी की तरह भरोसेमंद नहीं माना जा सकता. संभव है कि अगर टीम मैनेजमेंट इस नजरिए से सोचे तो वह मध्यक्रम में किसी अनुभवी खिलाड़ी को रखना चाहे. ऐसे में वह पंत की जगह किसी अनुभवी खिलाड़ी को वरीयता दे सकती है. ऐसे में अजिंक्य रहाणे का नाम सबसे पहले आएगा. यह भी संभव है कि टीम फिर से अंबाती रायडू को याद करे.