लंदन । पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने पूर्व कप्तान विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के दस्तानों में सेना के प्रतीक को लेकर आईसीसी की आपत्ति को गलत बताया है। गंभीर ने धोनी का समर्थन करते हुए कहा कि आईसीसी गैरजरुरी विवाद पैदा कर रहा है। गंभीर ने कहा कि आईसीसी का इससे कोई मतलब नहीं है कि कौन क्या पहन रहा है। आईसीसी का काम ठीक तरीके से क्रिकेट को चलाना है, न कि यह देखना कि कौन क्या पहन रहा है और किसके शरीर पर किसका लोगो है। गंभीर ने कहा कि आईसीसी को यह देखना चाहिए कि टूर्नमेंट में कहीं ज्यादा रन बन रहे हैं और पिचें बल्लेबाजों की ओर झ़ुकी हुई हैं।
उन्होंने कहा, ‘आईसीसी को देखना चाहिए कि टूर्नामेंट में 300 से 400 रन नहीं बनने चाहिए। आईसीसी का काम ऐसी पिचें बनाने पर होना चाहिए, जो गेंदबाजों की भी मददगार हों न कि ऐसी स्थिति जो सिर्फ बल्लेबाजों की मददगार हों। वहीं धोनी के लोगो के मुद्दे को काफी ज्यादा तवज्जो दी जा रही है।’ आईसीसी विश्व कप-2019 में भारत के दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए मैच में धोनी के दस्तानों पर सेना का प्रतीक बना था, जिसे लेकर आईसीसी ने आपत्ति जताई थी और बीसीसीआई से कहा था कि वह धोनी से अपने दस्तानों पर से यह चिह्न हटाने को कहे। वहींबीसीसीआई ने आईसीसी से धोनी को यह चिह्न बनाए रखने की मंजूरी मांगी थी जिसे आईसीसी ने नकार दिया था।