जबलपुर। सुप्रीम कोर्ट के एक अंतरिम आदेश के पालन में राजस्व विभाग, वन विभाग और खनिज विभाग ने संयुक्त कार्यवाही करते हुये मेसर्स निर्मला मिनरल्स पाठक वार्ड कटनी को ग्राम अगरिया तहसील सिहोरा में आवंटित खनिज पट्टों को तत्काल निरस्त करते हुये आयरन ओर की दो खदानें बंद करा दीं गईं हैं। जिला कलेक्टर भरत सिंह यादव के आदेश पर सिहोरा एसडीएम गौरव बैनल के नेतृत्व में गठित दल ने सिहोरा के ग्राम अगरिया में यह बड़ी कार्यवाही की। बताया गया है कि वन विभाग की जमीन पर दिये गये खनिज के पट्टे को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी जिस पर गत ३ मई को अंतरिम आदेश जारी कर कार्यवाही करने के निर्देश जबलपुर जिला दण्डाधिकारी को दिये थे। बताया गया है कि ये खदानें पूर्व राज्य मंत्री कटनी निवासी विजयराघव गढ़ के विधायक संजय पाठक के परिजन के नाम पर आवंटित थी। 
ये है मामला .......
सुप्रीम कोर्ट में याचिका डब्ल्यूपी २०२/१९९५ गोधा बर्मन विरुद्ध भारत सरकार एवं अन्य के खिलाफ दायर की गई थी। याचिका में इस बात को चुनौती दी गई थी कि जिस जमीन पर आयरन ओर का खनन मेसर्स निर्मला मिनरल्स द्वारा किया जा रहा है वह जमीन दरअसल वन विभाग की है राजस्व विभाग की नहीं, लिहाजा वन भूमि पर खनन नहीं किया जा सकता। इस याचिका की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने ३ मई २०१९ को एक अंतरिम आदेश पारित कर खदानें बंद कराने और जांच प्रतिवेदन देने के निर्देश दिये थे। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर भरत यादव ने ८ जून को एक आदेश पारित कर एसडीएम सिहोरा गौरव बेनल आईएएस के नेतृत्व में एक ६ सदस्यीय दल गठित किया और कार्यवाही कर जांच प्रतिवेदन देने के आदेश पारित किये जिस पर यह कार्यवाही की गई। 
यहां थीं दो खदाने ........
एसडीएम गौरव बेनल ने बताया कि सिहोरा तहसील की अगरिया ग्राम में पुराने खसरा क्रमांक ६८० और नये खसरा क्रमांक १०९३ रकबा २.१४१ हेक्टेयर क्षेत्र एवं दुवियारा के खसरा क्रमांक पुरानी ४४०/१ नये खसरा ६२८/१ रकबा ३२.३७४ हेक्टेयर क्षेत्र पर खनिज आयरन ओर हेतु स्वीकृत पट्टों को तत्काल बंद कराया गया। तीनों विभाग राजस्व एवं वन व माईनिंग इसकी जांच कर संयुक्त प्रतिवेदन प्रस्तुत करेंगे। 
ये रहे कार्यवाही में शामिल .........
कार्यवाही के दौरान एसडीएम गौरव बेनल, एसडीओ फारेस्ट, लोकप्रिय भारती प्रभारी तहसीलदार ग्वाल बोले, खनिज निरीक्षक श्री पटले सहित तहसीलदार, पटवारी, आरआई और पुलिस बल मौजूद रहा।