कोलंबो  । श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने दुनियाभर के देशों से ईस्टर धमाकों के बाद जारी की गई पर्यटन चेतावनियां (ट्रैवल अडवाइजरी) हटाने की अपील की। उन्होंने आश्वस्त किया कि इस्लामिक समूहों और उनके नेटवर्क पर कार्रवाई करने के बाद देश में सुरक्षा स्थिति में सुधार आया है। राजनयिक समुदाय के साथ बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि लोगों की जिंदगी पटरी पर लौट रही है और सुरक्षा बंदोबस्त पुख्ता किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री के कार्यालय ने एक बयान में कहा कि देश के सुरक्षा तंत्र के प्रतिनिधियों ने विदेशी राजदूतों को बताया कि देश में चरमपंथ की घटनाओं को भडक़ाने वाले लोगों पर पूरी तरह से लगाम लगाई जाएगी। इससे पहले राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरीसेना ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से यात्रा चेतावनियां हटाने की अपील की थी। भारत, अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया समेत कई देशों ने अपने नागरिकों को श्रीलंका ना जाने की सलाह दी थी। उन्होंने 21 अप्रैल को श्रीलंका के तीन लग्जरी होटलों और तीन गिरजाघरों पर आतंकवादी हमलों के बाद यह परामर्श जारी किया था। इन हमलों में 40 विदेशियों समेत करीब 260 लोग मारे गए थे।