नई दिल्‍ली : लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) देश में बीजेपी ने भले ही अच्‍छा प्रदर्शन किया हो. लेकिन देश में एक राज्‍य ऐसा भी है, जहां लोकसभा और विधानसभा चुनावों में बीजेपी के अधिक वोट 'इनमें से कोई नहीं' यानी (नोटा) पर पड़े. यही हाल कांग्रेस का भी है. आंध्र प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा चुनावों के दौरान ऐसी ही स्थिति देखने को मिली है्. साथ ही यहां बीजेपी और कांग्रेस के सभी प्रत्‍याशियों की जमानत भी जब्‍त हो गई है.

आंध्र प्रदेश में इस बार लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव एक साथ कराए गए थे. यहां टीडीपी और वाईएसआरसीपी के बीच कड़ी चुनावी जंग थी. ऐसे में यहां 23 मई को हुई मतगणना में यह बात सामने आई है कि नोटा पर अधिक वोट पड़े हैं. आंकड़ों की बात करें तो आंध्र प्रदेश में 25 सीटों पर हुए लोकसभा चुनाव के मतदान में 1.5 फीसदी वोट नोटा पर पड़े. वहीं बीजेपी को महज 0.96 फीसदी वोट मिले. इसके साथ ही कांग्रेस को 1.29 फीसदी वोटों से संतोष करना पड़ा.लोकसभा चुनाव 2019 के साथ ही आंध्र प्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों की बात करें तो 175 सीटों पर हुए मतदान में नोटा पर 1.28 फीसदी वोट पड़े. वहीं बीजेपी को 0.84 फीसदी वोट मिले. कांग्रेस ने 175 सीटों पर हुए मतदान में 1.17 फीसदी वोट मिले.