जबलपुर। उत्तरी हवाओं की वजह से पारे में आंशिक गिरावट आई है लेकिन गर्मी से कोई राहत नहीं आई है। भीषण गर्मी से जनजीवन के हाल बेहाल है। दोपहर में कड़ाके की धूप तपने से सड़कों पर वीरानी छा जाती है। रात में उमस से बैचेन लोग देर रात तक सड़कों पर चहल कदमी करते देखे जा सकते है। गर्मी का आलम यह है कि पंखे गर्म हवा पैंâक रहे है, कूलर की शीतल हवाओं ने भी दम तोड़ दिया है। पारा शनिवार को ४० डिग्री पर रहा, इसके बावजूद गर्मी बेहद महसूसे की गई। अगले २४ घंटों के दौरान मौसम शुष्क रहेगा। 
    स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के प्रवक्ता ने बताया कि पश्चिमी हवाओं की वजह से मौसम पूरी तरह शुष्क बना हुआ है। उत्तरी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ऊपर बने चक्रवात के कारण बादलों के छाने से उमस भी बढ़ रही है। सुबह हवा में नमी बढ़ने से और रात में नमी घटने से गर्मी और उसम का वातावरण बन रहा है। पिछले २४ घंटों के दौरान नगर का अधिकतम तापमान ४०.४ डिग्री सेल्सियस सामान्य दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान २८.०४ डिग्री सेल्सियस सामान्य से १ डिग्री अधिक दर्ज किया गया। हवा में नमी प्रातःकाल ३३ प्रतिशत और सायंकाल १८ प्रतिशत दर्ज की गई। गत वर्ष आज के दिन अधिकतम तापमान ४४.१ डिग्री और न्यूनतम तापमान ३५.५ डिग्री दर्ज किया गया था। दक्षिणी पश्चिमी हवाएं १० से १२ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चली। प्रदेश में सर्वाधिक ४३ डिग्री तापमान खजुराहो, मलाजखंड और खरगौन जिले में दर्ज किया गया। सूर्यादय सुबह ५.२७ मिनिट पर और सूर्यास्त शाम ६ बजकर ४६ मिनिट पर दर्ज किया गया। अगले २४ घंटों के दौरान संभाग का मौसम शुष्क रहने की संभावना है।