मुंबई । भारत के टेस्ट उपकप्तान अजिंक्य रहाणे का मानना है कि आगामी 30 मई से इंग्लैंड में होने वाले विश्वकप क्रिकेट में भारतीय टीम जीत की प्रबल दावेदार है। रहाणे ने कहा कि इस बार भारतीय गेंदबाजी आक्रमण काफी अच्छा है जो उसे जीत का प्रबल दावेदार बनाता है। रहाणे ने कहा कि शुरुआती लय और निरंतरता टूर्नामेंट में भारत की सफलता की संभावनाएं बढ़ाती है। विश्व कप टीम में शामिल नहीं किये गये रहाणे ने कहा, ‘कुल मिलाकर टीम काफी मजबूत है। इस बार विश्व कप नए प्रारूप में खेला जाएगा, हम 9 लीग मैच खेलेंगे, इसलिए लय और निरंतरता अहम होगी।’
इस बल्लेबाज ने कहा, ‘अगर आप अच्छी शुरुआत करते हो तो आपको पूरे टूर्नामेंट के दौरान प्रदर्शन में निरंतरता रखनी होती है। आईसीसी टूर्नामेंट में कोई भी टीम कभी भी लय हासिल कर सकती है। इसलिए हम किसी टीम को हल्के में नहीं ले सकते।’
साथ ही कहा कि भारत का गेंदबाजी आक्रमण इंग्लैंड के मददगार हालात में टीम का पलड़ा भारी करता है। उन्होंने कहा, ‘हमारा आक्रमण काफी अनुभवी है। अच्छी चीज यह है कि हमारी टीम में शामिल सभी गेंदबाज विकेट लेने वाले हैं और जिस टीम में विकेट हासिल करने वाले गेंदबाज होते हैं उसके मौके बढ़ जाते हैं। हमारे पास ऐसे गेंदबाज हैं जो किसी भी हालात में विकेट हासिल कर सकते हैं।’रहाणे ने कहा, ‘इंग्लैंड के हालात से निश्चित तौर पर हमारे गेंदबाजों को मदद मिलेगी क्योंकि हाल में वहां खेलने के कारण वे हालात को जानते हैं। यह सही है कि उन्हें कुछ बदलाव करने होंगे लेकिन यह समस्या नहीं होगी।’
रहाणे ने भारत के साथ वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के अलावा न्यूजीलैंड को भी प्रबल दावेदार बताया। उन्होंने कहा, ‘मैं किसी एक टीम को तय करने में विश्वास नहीं रखता, लेकिन इंग्लैंड की टीम काफी अच्छी है। न्यूजीलैंड ने आईसीसी टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन किया है और वेस्टइंडीज की टीम के प्रदर्शन का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। अपने दिन वे किसी भी टीम को हरा सकते हैं।’ रहाणे ने कहा कि इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में महेंद्र सिंह धोनी का लंबा अनुभव कप्तान विराट कोहली के लिए काफी मददगार होगा। रहाणे ने कहा कि विश्व कप में शामिल नहीं किये जाने से उन्हें निराश हुई है पर अब वह काउंटी क्रिकेट खेलकर अपनी बल्लेबाजी कौशल को निखारेंगे।