कवर्धा । कबीरधाम जिले में वन्य प्राणी के शिकार का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी शिकारियों ने करंट लगाकर दो मवेशी सहित तेंदुए का शिकार किया था। इस घटनाक्रम को बीते अभी कुछ माह नहीं हुए की फिर से तेंदुए का शिकार कर शिकारी उसकी खाल को बेचने ग्राहक की तलाश कर रहे थे।

कबीरधाम जिले के वनांचल क्षेत्रों में कई प्रकार के वन्य जीव निवास करते हैं और इनकी सुरक्षा को लेकर विभाग द्वारा एक बड़ी रकम भी खर्च की जाती है। इसके साथ ही जिन स्थानों पर ज्यादातर वन्य प्राणियों की चहलकदमी बनी रहती है। उन स्थानों का चयन कर ट्रैप कैमरा भी लगाया जाता है।

बावजूद इसके शिकारी वन्य प्राणियों का शिकार आसानी से कर पा रहे है। जो विभाग की कार्यप्रणाली पर प्रश्नवाचक चिन्ह सा लग रहा है। ज्ञात हो कि स.लोहारा क्षेत्र में आज तीन लोगों के द्वारा वन्य प्राणी तेंदुए की खाल को काले रंग के बैग में रखकर ग्राहक की तलाश की जा रही थी, लेकिन तीनों आरोपियों को सहसपुर लोहारा पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर टीम बनाकर बड़ी सजगता से पकड़ में ले लिया है।

थाना से गठित टीम ने बानो फॉरेस्ट डिपो सहसपुर लोहारा के पास मुखबिर द्वारा बताए गए हुलिए के अनुसार वहां तीन व्यक्ति खड़े हुए मिले। जिनके पास बैग में तेंदुए की खाल रखी हुई थी।