बरकतों और रहमतों का पाक महीना रमजान शुरू हो गया है। वैसे तो रमजान के दौरान सभी रोजेदारों के लिए एक जैसे ही नियम होते हैं लेकिन गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों के लिए इन नियमों में कुछ रियायत दी गई हैं। गर्भवती महिलाओं को रोजे के दौरान इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।
अगर किसी गर्भवती महिला ने रोजा रखा हुआ है और अचानक उसे शरीर में कमजोरी महसूस होने लगे तो वो रोजा तोड़ सकती है।
ऐसी गर्भवती महिलाएं जिनका रक्तचाप ज्यादा या कम रहता हो, उन्हें भी रोजा नहीं रखना चाहिए।
अगर अचानक अपको महसूस हो कि आपका बच्चा पेट में गतिविधि नहीं कर रहा है या कम कर रहा है तो अपना रोजा उसी समय तोड़ दें।
अगर आपका वजन लगातार कम हो रहा हैं या डॉक्टर ने आपको रोजा रखने के लिए मना किया है तो भी आप रोजा रखने से परहेज कर सकती हैं।
खाने में बरतें ये सावधानी-
सुबह खाई जाने वाली सहरी को कभी नहीं छोड़ें। यह आपको पूरा दिन ऊर्जावान बने रहने में मदद करती है।
भीगे बादाम के साथ अपने दिन की शुरुआत करें। इसके साथ फल, फलों का रस या दूध का सेवन करें।
दिनभर खुद को उर्जा से भरपूर रखने के लिए खाने में उच्च-फाइबर वाला आहार जैसे सब्जियों के साथ पनीर,चिकन,अंडे के साथ मल्टीग्रेन रोटी का सेवन करें।