नई दिल्ली । एक ताजा अध्ययन में पाया गया है कि शराब सीधे तौर पर ब्लड प्रेशर को बढ़ा देती है और इससे स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है। इस अध्ययन में पूर्व के उन दावों को भी खारिज किया गया है कि शराब के एक या दो ड्रिंक से स्ट्रोक से बचाव हो सकता है। यह निष्कर्ष करीब 50 हजार पुरुषों और महिलाओं पर दस साल तक किए गए अध्ययन के आधार पर निकाला गया है। चीन की पेंकिंग यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर लिमिंग ली ने कहा, ‘स्ट्रोक अपंगता और मौत की प्रमुख वजह है। इस अध्ययन से यह जाहिर होता है कि शराब से स्ट्रोक की दर बढ़ जाती है। स्ट्रोक से बचाव में शराब सेवन का प्रभाव नहीं पाया गया है।’ इसमें कोई रहस्‍य नहीं है कि शराब के सेवन से कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं हो सकती हैं जिसमें लीवर की बीमारी सिरोसिस और साथ ही सड़क यातायात दुर्घटनाओं में घायल होने की वजह पैदा कर सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार शराब का अधिक सेवन से 60 से अधिक बीमारियों के साथ जुड़ा होता है। यहां पर शराब से नुकसानों के बारे में बताया गया है। शोधकर्ताओं ने पाया कि ज्‍यादा शराब पीने वाले उन लोगों में मौत का खतरा दोगुना हो जाता है, जिन्‍हें पहले हार्ट अटैक आ चुका है। उम्र बढ़ने के साथ लोगों में औसत रूप से लगभग 1,9 प्रतिशत की दर से मस्तिष्क सिकुड़ता है। इसे सामान्य माना जाता है। लेकिन अधिक शराब पीने से मस्तिष्क के कुछ महत्वपूर्ण हिस्सों में इस संकुचन की गति बढ़ जाती है जिसके कारण स्मृति हानि और डिमेंशिया के अन्य लक्षण दिखाई देते हैं।वैज्ञानिकों के अनुसार, खतरा तब और अधिक बढ़ जाता है जब शरीर में शराब एसीटैल्डिहाइड, शक्तिशाली कैसरजन में परिवर्तित हो जाता है। शराब के अधिक उपयोग से मुंह, गले, ग्रासनली, लीवर, स्तन, पेट और मलाशय के कैंसर होने का खतरा बहुत अधिक रहता हैं। कैंसर के खतरा उन लोगों को बहुत अधिक होता है जो बहुत अधिक शराब पीने के साथ तम्बाकू का सेवन भी करते हैं।अधिक शराब पीने के कारण प्लेटलेट्स की ब्‍लड क्लॉट्स के रूप में जमा होने की संभावना अधिक होती है जिसके कारण हार्ट अटैक या स्ट्रोक हो सकता है।