रायपुर। प्रदेश के तापमान में छलांग और गिरावट का दौर जारी है। इसी बीच गुरुवार को मौसम ने ऐसी करवट बदली कि तेज हवाओं ने पूरे छत्तीसगढ़ को अपनी चपेट में ले लिया। रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव समेत कई जिलों में हवा की रफ्तार 40-50 किमी प्रति घंटा तक दर्ज की गई। यह सब कुछ हुआ राजस्थान से सक्रिय द्रोणिका की वजह से, जो मध्यप्रदेश से होते हुए छत्तीसगढ़ से गुजरी। दोपहर 3.30 बजे से रायपुर का मौसम बदलना शुरू हुआ। बादल छाने लगे, धीरे-धीरे हवाएं चलनी शुरू हुईं और देखते ही देखते आंधी-तूफान में बदल गईं। शाम पांच, साढ़े पांच बजे के करीब हालात ये थे कि पूरे शहर में धूल का गुबार छा गया।
30 मीटर की दूरी पर कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। करीब घंटे भर के लिए शहर की सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। जो जहां से गुजर रहा था, वहीं ठहर गया। खड़ी दो पहियां गाड़ियां गिर गईं। शहर के सिविल लाइंस क्षेत्र के अलावा कई इलाकों में पेड़ गिरे। जान का कोई नुकसान नहीं हुआ है। कुछ जगहों से हल्की बूंदाबांदी हुई। जगदलपुर में 2.8 मिमी बारिश भी हुई है। इसके अलावा कुछ क्षेत्रों में बूंदाबांदी भी हुई।
सुबह से शहर का पारा तेजी से बढ़ रहा था। यह चढ़ा हुआ 40.8 डिग्री तक जा पहुंचा और फिर शाम को मौसम अचानक से बदल गया। मौसम वैज्ञानी एचपी चंद्रा का कहना है कि आने वाले 48 घंटे तक द्रोणिका का असर बना रहेगा।