लोकसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नज़दीक आ रही है वैसे ही बयानों की बौछार भी तेज़ होती जा रही है. कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा ने शुक्रवार सुबह ऐसा बयान दिया जिसपर राजनीतिक बखेड़ा खड़ा हो गया. पित्रोदा के बयान पर भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस पर हमलावर है, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी पलटवार करते हुए कहा है कि जब गुरु ऐसा हो तो शिष्य कितना निकम्मा होगा ये समझा जा सकता है.

गौतम गंभीर को भाजपा में शामिल करने के लिए बुलाई गई प्रेस कॉन्फ्रेंस में अरुण जेटली ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि सैम पित्रोदा का आज का बयान ये दिखलाता है कि हमने जो किया वो गलत था. जबकि ऐसा तो विश्व के किसी देश, यहां तक की OIC ने भी नहीं कहा, केवल पाकिस्तान ने ये बात कही है. पित्रोदा का आज का ये बयान बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.

इसी दौरान उन्होंने कहा, ‘’अगर गुरु ऐसा हो तो शिष्य कितना निकम्मा निकलेगा, ये देश को भुगतना पड़ रहा है.’’ गौरतलब है कि सैम पित्रोदा को गांधी परिवार का करीबी माना जाता है, वह राजीव गांधी के भी करीब थी. सैम को ही भारत में IT क्रांति का जनक माना जाता है. ऐसे में पित्रोदा के विवादित बयान के जरिए भाजपा को कांग्रेस पर निशाना साधने का अवसर मिल गया है. अभी सैम पित्रोदा इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष हैं.

क्या था सैम पित्रोदा का बयान?

दरअसल, एक इंटरव्यू में सैम पित्रोदा ने पुलवामा हमले पर बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले के लिए पूरे पाकिस्तान पर आरोप लगाना सही नहीं है. साथ ही उन्होंने मुंबई हमले के लिए पूरे पाकिस्तान को दोषी बताने को गलत करार दिया.

प्रधानमंत्री मोदी ने किया पलटवार

सैम पित्रोदा के बयान पर बीजेपी हमलावर है. शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर कांग्रेस पार्टी को घेरा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि गांधी परिवार के सबसे बड़े विश्वासपात्र सलाहकार ने भारतीय सेना को गलत ठहराने की कोशिश की है जो बेहद शर्मनाक है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि विपक्ष बार-बार हमारी सेना का अपमान करता है.